Tuesday, July 16, 2019

ITi के प्रादेशिक अधिकारी को RTI के कमिश्नर ने हुकम में आरटीआई का पाठ पढाया..! बीलीमोरा ITI के अधिकारी पक्का बिल न लेकर सरकार को करोडो़ रूपये का चूना लगाया..

ITI के प्रादेशिक अधिकारी को RTI के कमिश्नर ने आरटीआई का नियम समझाया .!
 बीलीमोरा के ITI के अधिकारी ने पक्का बिल न लेकर सरकार को लगाया
 करोडो़ का चूना 
              अब जायें तो जायें कहां ? 
                नवसारी जिले के बीलीमोरा शहर में वर्षों से आइ टी आई संस्था चल रही है। जिसमें तालीम के लिए हजारों बच्चे तालीम ले रहे हैं। सरकार करोडो़ रुपये रोजगार के लिए प्रति वर्ष दिल खोलकर देती है। यदि अब तक दिये गये सभी रकम का इस्तेमाल कायदेसर किया गया होता तो शायद नवसारी जिला गुजरात ही नहीं अपितु देश का सबसे अमीर जिला और बेरोजगारी का प्रतिशत माइनस होता। परंतु जमीनी हकीकत यहाँ कुछ और ही बयां कर रही है। जानकारो के मतानुसार यहाँ ज्यादातर धनराशि प्रायोजना वहीवटदार वासदा के माध्यम से आती हैं। और सदर वासदा के अधिकारी श्री का कार्यालय वर्षो से सरकार के मुख्य भ्रष्टाचार कार्यालयो मे अपना नाम अंकित करवा चुका है। इसलिए सभी प्रकार की छटकबारीयों से प्रमाणित अधिकारी हमेशा से बच निकलने में माहिर है । परंतु इस समय पूरी तरह से आरटीआई के जाल में फस चुके हैं।और उनके द्वारा धनराशि प्राप्त कर कई अधिकारी भी फस चुके हैं। आइटीआई बीलीमोरा के अधिकारी श्री ने एक निरीक्षण में किसी भी व्यापारी के पास पक्का बिल न लेकर सरकार को करोडो़ का चूना लगा चुके हैं।यह अब पूरी तरह से साबित हो चुका है। कई विद्वानों का मंत्वय है कि यहाँ ज्यादातर गरीब आदिवासियों का निवास है। और इतने सीधे और भोले लोग हैं कि वह जल्दी फरियाद नही करते और नाराज भी नही होते। उनकी गरीबी का ए अधिकारी जमकर जश्न मनाते हैं। हालांकि ज्यादातर अधिकारी भी उसी वर्ग से आते हैं। बीलीमोरा के आइटीआई के अधिकारी की जान पहचान अच्छे से अच्छे असमाजिक तत्वों से होने के नाते मानवाधिकार संस्था के प्रदेश अध्यक्ष को भी निरीक्षण के दौरान बताने की कोशिश की ।परंतु ए नेताओं की तरह जुमलेबाजी करके भूल गये। और इनके मुखिया जो अपने आप को 14 जिले का अधिकारी अपील की सुनवाई के दौरान बता रहे थे। अब गुजरात के मुख्य माहिती कमिश्नर श्री एक नोटिस देकर जमकर धोया है। और यह धारा 18 के तहत फरियाद दर्ज की गई है। 30 दिनो के भीतर इन्हे माहिती अपडेट करना जरुरी बताया गया है। अब 14 जिले के मुख्य अधिकारी श्री हुक्म का पालन सिर झुकाकर करेंगे या इन्हे समझाने की अब भी जरूरत होगी कि यह मालिक नही हैं। और वेतन मालिक को नही सिर्फ और सिर्फ़ नौकरो को दिया जाता है। और साथ ही साथ जिस 14 जिले की बात नेताओं की तरह बोल गये अपने अधिकारियों को  भी कायदेसर पालन करवाने की जहमत उठायेंगे। और आज इनके लिए यह ढंग से समझने की जरूरत है कि यह भारत देश संत महात्माओं ऋषि मुनियों का देश है। आज फिर दूसरी बार भारत अपना मुखिया एक फकीर योगी पुरुष को चुना है। जिसने अपने आपको प्रधानमंत्री के बदले प्रधानसेवक कहलाने में गर्व महसूस किया है। और गरीबो आदिवासियों बेरोजगार महिलाओं मजदूरो के साथ डकैती करनेवालों को उस के दरबार में माफी और तारीख जैसे कोई शब्द आज तक नही पाये गये। अब देखना होगा कि बीलीमोरा के अधिकारी के साथ उनके 14 जिले के मुखिया जिसके लिए उन्हे वेतन और राजाशाही जैसी सुविधाएं मुहैया करवाई गई है। कायदेसर कायदे का पालन करेंगे कि प्रधानमंत्री के भ्रष्टाचार मुक्त भारत में अपना नाम लिखवाकर सरकार के सुविधा युक्त सेवालयों में अन्य सुविधाएं प्राप्त करेंगे।

Saturday, July 13, 2019

क्या आप दुःखी हैं? इसे कैसे सुख में बदलें..?

      *स्वतंत्र भारत के जलते प्रश्न*
                     क्या आप दुःखी है ?
                      आइये इसका कारण भगवान महावीर की नजरों से समझे ..
              भगवान महावीर कहते है कि नही आप अपने कारण ही दुखी हो ।बम विस्फोट के पीछे उसके अन्दर का भरा हुआ बारुद है। उसी प्रकार से हमारे अंदर की सोच है। कोई अन्य तब तक आपको  दुखी नही कर सकता जब तक आप स्वयं उसके लिये तैयार न हो। भगवान बुद्ध भी इसी को अपने ढंग से कहते है। कि आप इसे अपने अंदर यदि न जाने दे। फिर आप को दुखी नहीं कर सकता।
आप अपने मालिक स्वयं है। आप हर पल सुखी रह सकते है। और जो ब्यक्ति स्वयं दुखी है वह किसी को कभी सुखी नही कर सकता।
आइए इसके रहस्य को समझने की कोशिश करें।  सुख हमारा जन्म सिद्ध अधिकार है। इसे समझने के लिये हमें अपने आपको समझना होगा।  इसके लिये  धन्यवाद और अपने भीतर स्वयं के प्रति समर्पण करना होगा। बाहर भटक कर यदि थक गये । और कही कुछ समझ नही आया। फिर आइये एक बार हम अपने भीतर की यात्रा पर चल कर देखे।  इसके लिए न कही जाना है न ही कुछ छोडना है। दिशाए सिर्फ दो ही है एक बाहर और दूसरी भीतर। बाहर बहुत भटक लिया। और कुछ मिला नही आइये अब एक बार अपने भीतर की यात्रा पर चलकर देखे..
भीतर आपका अपना कई जन्मो से आपकी प्रतीक्षा कर रहा है। क्या आप अपने उस मित्र को जानते हो? क्या आप उससे मिलना चाहोगे? क्या आप अपने मित्र से कभी कुछ बात किया..? आप अपने मित्र को नही जो हर पल आपके सुख दुख की साथी अपने शरीर से बात किया। आपके शरीर के किसी अंगो से बात की?  आपके शरीर का एक एक अंग जो हमेशा आपकी मदद करते हैं उनकी जरूरतो को समझने की कोशिश की? आपकी शरीर की हर अंग की जरूरत जब आप पूरी नही करते वह कमजोर हो जाते हैं? और उसे आप पूरा न करकर किसी चिकित्सक के पास जाना पड़ता है? और वह भी जरूरत पूरा करने की सलाह न देकर केमिकल से भर देता है। क्या यह उचित है। यह शायद पहली बार आप पढ रहे हो इसलिए बहुत अजीब लग रहा होगा। क्या आप अपने मित्र के बारे में जानना चाहते हो.?
एक बार अवश्य उस यात्रा पर जाये।
यदि आपको कहीं भी कोई मदद अथवा मार्गदर्शन चाहिए ।
अवश्य संपर्क करे
आपकी हर संभव जरूरी मदद और मार्गदर्शन मिलेगा।
संपर्क सूत्र
डा. आर आर मिश्रा
मोबाइल 9898630756
9227850786  9328014099

Friday, July 12, 2019

નવસારી શહેરી વિકાસ સત્તા મંડળની કામગીરી શંકાસ્પદ ..?

નવસારી શહેરી વિકાસ સત્તા મંડળની કામગીરી શંકાસ્પદ..?
સરપંચશ્રીઓ સરકારનીતિ  સામે ઠરાવ કરવાની સત્તા છે ખરી..? 
જવાબદાર  અધિકારીઓ સામે કાર્યવાહી ક્યારે થસે..?  
ભ્રષ્ટાચાર માં સરકારની આવક કે પોતાની ...? 
                                  નવસારી શહેરી વિકાસ સત્તા મંડળની રચના વર્ષ ૨૦૧૫ માં કરવામાં આવી.નવસારી શહેરી વિકાસ સત્તા મંડળમાં નવસારી જિલ્લા કલેકટર અને જિલ્લા મજિસ્ટ્રેટ શ્રી, નવસારી જીલ્લા અધિક કલેકટર અને જિલ્લા અધિક મજિસ્ટ્રેટ શ્રી, નાયબ કલેકટર શ્રી. જિલ્લા નગર નિયોજક વગેરે તમામ સુપર ક્લાસ વન અધિકારીઓના સમાવેશ કરવામાં આવેલ છે. ગુજરાત સરકાર દ્વારા શહેરોના વિકાસ કાયદેસર થાય એના માટે દરેક જિલ્લામાં શહેરી વિકાસ સત્તા મંડળની રચના કરવામાં આવી.સરકારનો હેતુ માં કોઈ પણ જાતની ખોટ નથી. જેમાં નવસારી શહેરી વિકાસ સત્તા મંડળની રચના ખરેખર કાબીલે તારીફ કામગીરી કહેવાય. ઠેર ઠેર બિન અધિકૃત બાધકામો થી નવસારી શહેર સાથે આજુ બાજુના વિસ્તારોમાં કાયમી ધોરણે આજે વર્ષો થી ધારો ૧૪૪ની જેમ પાર્કિગ માટે પ્રતિબંધ છે.પાર્કિગ માટે વાહનો ઉભા કરવા માટે એક પણ જગ્યા નથી. શહેરનો વિકાસ નિયમ બદ્ધ કાયદેસર થશેના બદલે નેતાઓ અને અધિકારીઓની કમાણી માટે એક નવી કચેરી ઉભી કરવામાં આવી હોય એવો આજે નજરે દેેેખાાઈ રહ્યો છે. નવસારી શહેરી વિકાસ સત્તા મંડળનો હદ વિસ્તાર  ફકત પાચ કિલોમીટરની છે. અને એ હદ વિસ્તારની કચેરીના અધિકારીઓને પાંચ પાંચ માળની બિલ્ડિગો ઉભી થઈ જાય છે. અને જાણ બહાર હોય એ કેવી રીતે શક્ય છે.? બાધકામો શરુ થાય ત્યારે નવસારી શહેરી વિકાસ સત્તા મંડળના અધિકારીઓ ઇન્સપેકટરો ને તપાસ કરવાનો હોય છે.સાથે સાથે દરેક માળનો પ્રોસેસ રિપોર્ટ કાયદેસર હોય પછી જ બીજો માળની શરૂઆત કરવાની હોય અન્યથા તરતજ અટકાવવા માટે નોટિસ અને બંધ નહીં કરે ત્યારે સીલ કરવાનો કાયદો અધિકારીઓને ખબર નથી. મળેલ માહિતી મુજબ બારડોલી માં એવી રીતે બે માળની પરવાનગી ઉપર બીજો ચાર માળ બનાવતા માં હાઈકોર્ટે એ દૂર કરવા હુકમ કરેલ છે. નવસારી જિલ્લામાં નવસારી શહેરી વિકાસ સત્તા મંડળના સુપર કલાસ વન અધિકારીઓ પોતાના હોદ્દોના ઉપયોગ સરકારનો વિકાસ આમ નાગરિકોના વિકાસ કાયદેસર કામો કરવામાં પાછળ કેમ છે. ગુજરાત સરકાર ફકત બિલ્ડરો સામે હુકમ ની સામે પણ સવાલિયા નિશાન કેમ ન લગાડવો.. સુરક્ષા વિભાગ માં પોલીસ જે ખરેખર પોતે કોઈ સીધે સીધો સંડવાયેલ નથી હોતી છતાં કોઈ પણ મોટો અણબનાવ બને ત્યારે તરતજ સસ્પેન્ડ ફકત જવાબદારી ગણી ને કરવામાં આવે છે. અને અહીં કાયદેસર સ્પષ્ટ નજરે હોય છતા જવાબદાર અધિકારીઓને કોઈ શિક્ષાત્મક કાર્યવાહી કેમ કરવામાં નથી આવતી.
જાણકારો અને વિદ્વાનોના મંતવ્યો અહીં લખી શકાય નહીં. પરંતુ એ સામાન્ય નાગરિકો પણ સમજી શકે છે. નવસારી જિલ્લામાં પહેલીવાર સત્તા પક્ષના નગરસેવકો ગેરકાયદેસર બાધકામોની એક મોટી લિસ્ટ નવસારી જિલ્લા કલેકટરશ્રીને આપી છે.છતા આજ સુધી એક નોટિસ સિવાય કોઈ કામગીરી કરવામાં નથી આવી. નવસારી જિલ્લામાં ઓર્કેટેક ઇજીનિયર કંપલીશન સર્ટિફિકેટ માન્ય રાખવામાં આવે છે.જે ખરેખર દુર્ભાગ્યપૂર્ણ અને શરમજનક છે. નવસારી શહેરી વિકાસ સત્તા મંડળ પોતાના હદ વિસ્તારમાં માં બાધકામો માટે પરવાનગી આપે છે. ઓર્કેટેક ઇજીનિયર જે કોઈ ગવર્મેન્ટ ઓથોરિટી નથી એ કંપલીશન સર્ટિફિકેટ આપે છે. તલાટી કમ મંત્રી જેની પાસે કોઇ સત્તા નથી હોતી એ આકારણી કરી આપે છે.અને એ બધા જ અનલીગલ કંન્સટ્રકસન ઉપર અનલીગલ ડોકોમેન્ટસ ઉપર ડીજીવીસીએલ વીજ કનેક્શન આપે છે.અને રજીસ્ટાર દસ્તાવેજો કરી આપે છે. જ્યારે એવી બિલ્ડિગોમા અકસ્માત થાય કરૂણ મોત થાય ત્યારે શાસન પ્રશાસનના નેતાઓ અને અધિકારીઓ સેલ્ફી લેવા ફોટોગ્રાફ પડાવવા ફર્સ્ટ પેજ ઉપર ચમકવા માટે રાજનીતિ કરવામાં આવે છે.આજે જાહેર બાંધકામો થી આમ નાગરિકો જ નહિ ગુજરાત સરકાર બદનામ થઈ રહી છે. નેતાઓ અને અધિકારીઓ મસ્ત  નાગરિકો ત્રસ્ત જોવા મળી રહ્યો છે. નવસારી જિલ્લા કલેક્ટર અને જિલ્લા મજિસ્ટ્રેટ શ્રી જે સદર કચેરીના મુખ્ય કારોબારી અધિકારી પણ છે. ગેરકાયદેસર બાંધાકામો માં કાયદાકીય કાર્યવાહી કરી દૂર કરવા હુકમ કરશે  ખરા..જેેથી નવસારી શહેરી વિકાસ સત્તા મંડળ વિકાસની ગતિ માં કાયદેસર કામ કરી શકે્. એ જોવાનુ બાકી રહ્યુ.

Thursday, July 11, 2019

નવસારી જિલ્લામાં આયુર્વેદ વિભાગના બિલ્ડિગો લકવાગ્રસ્ત...

નવસારી જિલ્લામાં સરકારી આયુર્વેદ દવાખાનાઓની હાલત જર્જરિત..! 
વિકાસ સમૃદ્ધિના અધિકારીઓ નેતાઓ અદૃશ્ય..? દર્દીઓ તબીબોના અકસ્માત માં ......ની રાહ જોઈ રહ્યા છે...? 

         આજે સૌથી જુની સૌથી સરળ રૂષિ મુનિઓ દ્વારા રચિત માનવ જીવન માટે અતિ ઉત્તમ અસાધ્ય માં અસાધ્ય બીમારીઓની જળ મૂળથી નાબૂદ કરનાર, અસરકારક, ગરીબો, દલિતો, આદિવાસીઓ, ખેડૂતો, મહિલાઓ, બેરોજગારો, સોને રોજગારી આપનાર દેશની આર્થિક વ્યવસ્થાને સુધારો કરનાર , ભારતને વિશ્વ ગુરૂ સુધી પહોચનાર દરેકે દરેકને પોષણ આપનાર , એક માત્ર આયુર્વેદિક ચિકિત્સા પદ્ધતિ જેનો વર્ણન દરેક ધર્મ શાસ્ત્રોમા  મળે છે. એ આયુર્વેદ ચિકિત્સા પદ્ધતિ ભારત દેશથી લુપ્ત થવાને હાલતમાં છે. જેનો પુરાવો દેશના તમામ જિલ્લાઓ માં ચાલતો આયુર્વેદ દવાખાનાઓને જોઈ કહી શકાય છે. એક સર્વે રિપોર્ટ મુજબ સોથી વધૂ ખર્ચ એક નાગરિકને આશરે ૩૦ ટકા બીમારીઓ ઉપર કરવા પડે છે. અને દેશથી સૌથી વધુ રકમ વિદેશો માં એલોપૈથી દવાઓના માધ્યમ થી જઈ રહી છે.જેને રોકવા માટે સરકાર પાસે કોઈ વ્યવસ્થા નથી. કારણ એક જ છે આપણે સૌ પોતાના ઊપર પોતાની ચિકિત્સા પદ્ધતિ ઉપર વિશ્વાસ નથી કરતા. આજે આયુર્વેદ પદ્ધતિનો તબીબ પણ એલોપૈથી દવાઓ ઉપર જ પ્રેક્ટિસ કરી રહ્યો છે. 
                        નવસારી જિલ્લામાં મોટા ભાગના આયુર્વેદિક દવાખાનાઓની બિલ્ડિગોની હાલત તદ્દન જર્જરિત હાલતમાં છે. આપણી સરકાર ડિઝિટલ ઈન્ડિયા, આધુનિક ભારત, સમૃદ્ધ ભારત, વિકસિત ભારત જેમાં ગુજરાત મોડલના નામે ઠેર ઠેર ગીતો ગાઈ રહી છે. પરંતુ જમીની હકીકત માં સ્વાસ્થ્ય માટે તબીબી સારવાર માટે આજે પણ આયુર્વેદ ચિકિત્સા પદ્ધતિ માટે આધુનિક રીતે કે દર્દીઓ તબીબો બેસી શકે એવી બિલ્ડિગો પણ ઉપલબ્ધ નથી. પર્યાવરણ માનવ અધિકાર સંસ્થા દ્વારા આયુર્વેદના દવાખાનાઓની રૂબરૂ મુલાકાત લેતા જે દૃશ્યો જોવા મળ્યું છે એના માટે લખી શકાય એવા શબ્દાવલી માં શબ્દો જ નથી. સૌથી મોઘી પરીક્ષા આપનાર એક એક ચિકિત્સક જર્જરિત જુના જમાનાના મકાનો માં પોતે મોતને પહેલા થી સ્વીકાર કરી ભગવાન ભરોસે અર્પણ કરી દર્દીઓને સારવાર કરતા દૃશ્યમાન છે. મોટા ભાગના મકાનોની સીસી પણ અજુ સુધી આપવામાં આવેલ નથી. અને એ બધુ ભ્રષ્ટાચાર કરી અધિકારીઓ બાપુ દર્શન દ્વારા બનાવવામાં આવેલ છે. અને એ બધુ દેખ રેખ કરવા માટે કોઈ અધિકારી વર્ષો થી નથી.ગુજરાત માં આયુર્વેદ વિભાગના વિકાસ માટે કોઈ યોજના કે ફંડ છે ખરૂ..? મોટા ભાગના અધિકારીઓને ખબર નથી.સદર બાબતે તબીબો પણ અસહાય, અનાથ, મજબૂર નજરે પડી રહ્યા છે.ગુજરાત સરકારના અધિકારીઓ નેતાઓ કયાં છે..? વિકાસ સમૃદ્ધિ જેવા શબ્દો આયુર્વેદ પદ્ધતિ થી વર્ષો પહેલા તલાક લીધેલ હોય જેથી શોધવો મુશ્કેલ છે. જિલ્લા આયુર્વેદ અધિકારીની જગ્યા વર્ષો થી ભરવા માં આવી નથી. તપાસ કરતા જાગૃત નાગરિકો અને વિદ્વાનોના મંતવ્ય મુજબ શાસન માં ભણતરની જરૂર નથી. અને પ્રશાસન માં બાપુની ધરતી હોવાથી બાપુની તસવીરો થી કામ સરળ રીતે થતો હોય અને એવી જૂની પદ્ધતિનો વિકાસ કરવામાં ગરીબોથી માડી દેશનો વિકાસ માં કોઈ વળતર પર્સનલી થતો નથી. ગરીબોને ખેડૂતોને બેરોજગારોને વિકાસ થસે શિક્ષા સ્વાસ્થ્ય સુરક્ષાનો વિકાસ થસે ત્યારે એવા નેતાઓ અધિકારીઓને પોતાનો સ્થાન કયાં હશે.દરેકને ખબર જ છે. જેથી આયુર્વેદ પદ્ધતિનો વિકાસ માં એવા અધિકારીઓ નેતાઓ કોઈ પણ સંજોગોમાં આગળ આવી શકે નહીં. છતાં સમય પરિવર્તન શીલ છે. આજે દેશ પોતે પરિવર્તન તરફ જઈ રહ્યો છે.દેશ પહેલી વાર એક યોગી પુરુષ ને પસંદ કર્યુ છે. અને આજે યોગ વિશ્વપટલ પર છે. યોગ આયુર્વેદનો એક ભાગ છે. યોગ પોતે સર્વગુણ સંપન્ન છે. યોગનો વિકાસની શરૂઆત થઈ ચુક્યો છે એ પોતે પોતાની જળ એટલે આયુર્વેદ સુધી લઈ જશે.. 
ઉપરોક્ત સમાચારની ગંભીરતાથી નોધ લઈ ગુજરાત સરકારના તમામ સંબધિત નેતાઓ અધિકારીઓ આયુર્વેદ ચિકિત્સા પદ્ધતિમાં પોત પોતાના ભાગ ભજવશે.અને દરેકે દરેક નાગરિકો ખેડુતો,મહિલાઓ,બેરોજગારોના વિકાસ આયુર્વેદિક ચિકિત્સાપદ્ધતિની વિકાસ થી થઈ શકે છે.પોતાનો જરૂરી યોગદાન આપી દેશની આર્થિક હાલાતમાં સુધારો આવશે. એની આજે  સમયની  માંગ  સાથે  અત્યંત  જરૂર  છે.

Tuesday, July 9, 2019

स्वतंत्र भारत के जलते प्रश्न.. ? भगवान और इंसान ..?

 स्वतंत्र भारत के जलते प्रश्न ? 
भगवान के बारे में आप ...?
              आज हम सब जिन्हें भगवान मानते हैं। सदियों से पूजा की जा रही है। और हम भी वर्षों से पूजा कर रहे हैं। और भविष्य में भी ऐसे ही करते रहेंगें। लाखो करोडो़ रूपये खर्च हो चुके हैं। और हो रहे हैं। और ऐसे ही होते रहेंगे। हम सभी अपने अपने धर्म के अनुसार अपने अपने भगवान अलग अलग नामो से अलग अलग धार्मिक कृयाओं से अलग बिधियों से अलग अलग स्थानो से मानते हैं। पूजा पाठ यज्ञ हवन करते हैं। और ऐसी इस धरती पर करोड़ों मान्यताएं हैं। और सभी अपने अपने मान्यताओं के अनुसार ही मानते हैं। और यह सदियो से चल रहा है। आज हम अंतरिक्ष पर स्थान प्राप्त कर चुके हैं। वैज्ञानिक युग में जैसे जैसे खोज हो रहा है। हमारी बहुत सारी धारणाएं गलत भी साबित हो चुकी हैं। धरती को अचला कहा था। जब पता चला कि यह हर पल गतिमान है। गलत साबित हो गया। हमारे शरीर में खून जमा है। पता चला कि यह भी काफी तीब्र गति से चल रहा है। शरीर में एक कुदरती बायपास अलग से है यह अभी कुछ वर्ष पहले ही पता चला। ऐसे आपको लाखो करोड़ों उदाहरण मिल जायेंगे। परंतु इससे आप क्या साबित करना चाहते हैं। यह सवाल जरूर आपके विचार में आ रहा होगा। आइये उपरोक्त बातो को हम गहराई से समझें। भगवान बुद्ध महावीर जीसस आदि के पहले भी हमारी मनुष्य जाति थी। आध्यात्मिक वैज्ञानिक आधार और शाष्त्र भी इस बात से सहमत हैं कि हम सभी इनसे पहले भी थे। उदाहरण के लिए जैसे आज हम सभी विभिन्न पार्टियों कांग्रेस भाजपा बीएसपी एसपी आप  वगेरे वगेरह का एक भाग बन चुके हैं। और आज हालत बद से बदतर हो चुकी है हम आज यहाँ तक गिर चुके है कि एक दूसरे की जान तक ले लेते हैं। पार्टियों का इतना नशा छा चुका है कि हम मनुष्यता को भी इंशानियत को भी भूल जाते हैं। वही हाल हम धर्मो का कर चुके हैं। सदियां गुजर गई। हम सभी इन मान्यता ओं से इतना जकड़े जा चुके हैं कि हम अपने मूल स्वरूप को ही भूल गये। तथाकथित धार्मिक गुरूओं जिन्हे खुद भी पता नही है। हमें अपने से ही दूर कर दिया। इसे व्यवसाय बना दिया। आज के इस युग में सभी को मायाजाल से दूर रहने की आत्मा परमात्मा की बात करने वालो की हकीकत पर नजर डाल कर देखें तब पता चलता है कि सबसे बडे़ मायाजाल सबसे ज्यादा धन इन्होने ही इकट्ठा कर लिया है। और इनकी हकीकत को देखकर हमारी संस्कृति हमारी सभ्यता हमारी खोज वह आनंद वह शुकून वह निर्मलता वह हमारी प्यास सभी से घृणा होने लगी। वह महावीर की नग्नता बुद्ध की पबित्रता कबीर और रहीम सूरदास और मीरा, रैदास, जीसस, कृष्ण राम, मोहम्मद सभी को आज इन तथाकथित जो अपने आप को धार्मिक गुरु के रुप में प्रस्तुत किए सभी के असलियत के उपर नकली रंग रोगन इतना चढ़ाये इतना चढ़ाये कि आज हमारी नवयुवक पीढ़ी नफरत करने लगी है। परिणाम यह हुआ कि हम और हमारी नवयुवक पीढ़ी कमजोर से कमजोर दीन हीन हो गई। आत्मबल जैसे महान शब्द हमारे जीवन से तिरोहित हो गये हैं। आत्मा परमात्मा जैसे हमारे जीवन से बिदा हो चुके है। आनंद और शांति पूर्ण जीवन शब्दावली से ही गायब हो चुके हैं। भगवान महावीर ने जिसे खोजने में अपना जीवन लगा दिया । दिया जले अगम का बिन बाती बिन तेल।। उस अगम को इन सौदागरो ने मिटाने में जरा भी देर नही लगाई। उस दिये की जिसकी बात भगवान बुद्ध कर रहे थे। ए आज भी उसे बेधड़क बेच रहे हैं। पैगम्बर मोहम्मद सिर्फ पैगंबर बने। ए तथाकथित लोग  अपने आप को उनसे भी ऊपर समझकर सौदा कर रहे हैं। आज हालत यहाँ तक गुजर गई कि बेचने वाले और खरीदने वालो दोनो को पता नही है। बेचने वाले को पता नही कि उसे बेचा नही जा सकता। और बेचे ही चला जा रहा है। और उनसे ज्यादा हालत खराब तब देखी जा रही है कि खरीदने वालोँ की अच्छी भीड़ लगी है। करोडो़ में बिक रहा है और खरीदने वालो की भीड़ ऐसी लगी है। कि दूसरों का नंबर शायद न लगे। हर हालत में खरीदारी कर रहे हैं। आज यदि फिर से उस अलख को जगाना है फिर एक ही रास्ता बचा है। जो सभी को अलग अलग अपने अपने रास्ते से चलने की सलाह देकर भी एक कर सकता है। वह है ध्यान। ध्यान आज एक ही माध्यम है कि जिसके द्वारा हम सभी संत महात्मा ऋषि मुनियों की खोज को जानने का संकेत प्राप्त कर सकते हैं। आज इस पर हम सभी को आत्म चिंतन की जरूरत है। आज हम जिसे मानते हैं। उसे जानने की जरुरत है। जाने बिना मानने में बडा़ खतरा है। और मानने से हालत हुई है। मानने की वजह से ही आज यह दशा हुई है।जैसे जैसे हम मानने लगते हैं । हमारी जानने की खोज की दिशा बंद हो जाती है। सबसे सरल तरीके से हम भगवान को भी पाना चाहते हैं। और कुछ छोड़ने को भी राजी नही हैं। प्रकृति का नियम है कि आप को आगे जाना है फिर हर एक कदम छोड़ते जाना होगा। यह नियम जिंदगी के हर पहलू में हर पल लागू होता है। संसार और संन्यास एक साथ नही मिल सकता। यह एक सिक्के के दो पहलू की तरह है। अब इसमें जो आपको ज्यादा मूल्यवान लगता है। वही आपको मिल जाता है। जिसे आप ज्यादा मूल्यवान समझते हैं। उसी की वारंवार चर्चा करते हैं। वह आपके अवचेतन मन में प्रवेश कर जाता है।और जो आपके अवचेतन मन में प्रवेश कर जाता है उसे आप जरूर प्राप्त करते हैं। इसी मंत्र इसी रहस्य का प्रयोग कर कर हमारे तथाकथित धार्मिक हालांकि वह है नही। परंतु एक ही को इतनी बार दोहराया गया कि आज हम अपने ही असलियत को भूल गये। आज फिर से हमें अपने मूल स्वभाव को समझना होगा। और उसका एक ही माध्यम है ध्यान।।।

Tuesday, July 2, 2019

रक्षक बने भक्षक..? सुप्रीम कोर्ट के मनाई हुक्म के बावजूद भी धड़ल्ले से बिक रही हैं जानलेवा एलोपैथी दवायें..?

सुप्रीम कोर्ट के हुक्म के बावजूद धडल्ले से बिक रही हैं प्रतिबंधित दवाएं - RTI 

 मानव जीवन का मूल्य गांधी दर्शन के सामने ..? 
आज जब सुप्रीम कोर्ट ने 350से अधिक दवाओं को मानव जीवन को खतरा बताते हुए तुरंत बेन लगाकर उपयोग करने और तत्काल बिक्री पर बंद करने हुक्म पिछले वर्ष ही कर चुकी है। फिर भी नवसारी जिले में धडल्ले से जानलेवा प्रतिबंधित दवाएं खुल्लेआम बिक रही है। और ड्रग अधिकारी कुंभ निद्रावस्था में हैं। आज जिनके ऊपर सरकार ने बिश्वास किया। आज वही मोत के सौदागर बन गये। इन प्रतिबंधित दवाओं के उपयोग से मानव शरीर में क्या दुष्प्रभाव पड़ रहा होगा? इसे आधुनिक वैज्ञानिको ने क्यों बंद करने पर जोर दिया होगा ? सुप्रीम कोर्ट ने क्यों बेन लगाया होगा। इसकी जानकारी इन मौत के सौदागरों को क्यो नही है ? इसके पीछे का रहस्य आज सभी को पता है। परंतु क्या इसे हलके में लेना उचित होगा ? सभी विद्वानों का एक ही मंतव्य नही में ही मिला है। जिसकी विस्तृत जानकारी के लिए और मिल रही फरियादो के अनुसार पर्यावरण मानव अधिकार संस्था के गुजरात प्रदेश अध्यक्ष के द्वारा एक सूचना खोराक औषध नियमन तंत्र के मददनीश कमिश्नर नवसारी जिनकी पूरी जिम्मेदारी होती है। उन्ही से मागी गई। सुचना के अधिकार (आरटीआई) से मिली सूचना के अनुसार नवसारी जिले में औषध नियमन तंत्र के कमिश्नर श्री जिन्हे सरकार ने पूरी फोज के साथ सभी प्रकार की सुविधाओं से लसालस किया है। उस कार्यालय को  आज मौज मस्ती के पिकनिक मनाने का अड्डा समझ बैठे हैं। मिली सूचना के अनुसार अभी तक जाबांज अनुभवी अपने आपको सुप्रीम कोर्ट से भी महान समझने वाले मददनीश कमिश्नर श्री इन जानलेवा दवाओं को बंद करने में कोई दिलचस्पी नही रखते । हजारों की संख्या में चल रही इन मौत के दवाओं के बिक्री करने वालो में अभी तक चंद दुकानों में देखकर आ गये। इन जान लेवा दवाओं को तुरंत नष्ट करने और आइ पी सी धाराओं के तहत सरकारी सेवालयों मे ले जाने के बजाय खुद ही सेवा लेकर आ गये। एक सामान्य गाली गलोज तक करने वालो को आइपीसी की विभिन्न धाराओं के तहत जेल तक जाना पड़ता है। और सीधे सीधे जानलेवा दवाओं को सुप्रीम कोर्ट के बेन लगाने के बावजूद बेचने के और बंद न करवाने वाले अधिकारी पर कोई कार्यवाही नही।पर्यावरण मानवाधिकार संस्था के प्रदेश अध्यक्ष द्वारा पूछे गये सवालो के सामने सुप्रीम कोर्ट के हुक्म पर सवाल उठा बैठे। शायद अभी भी चुनावो के दौरान नेताओं का लेक्चर इनके दिमाग में अभी तक छाया हुवा है। नेताओं की तरह प्रबचन दे बैठे।इन महाशय के मुताबिक आज इन सभी दवाएं जो मोत का कारण बनी हुई हैं। ऐसी दवाओं को बजार से दूर करवाने का सुप्रीम कोर्ट का हुक्म जारी न कर पाने के पीछे दवा बिक्रेताओं का नुकसान के सामने नागरिकों की जान की कीमत कुछ भी नही है। जानकारों और विद्वानों के मंतव्यों से मिली जानकारी लिखने में यहाँ शब्द ही नही है। शब्दों की गरिमा शर्मसार होने की वजह से उसको लिखा नही जा सकता। उसे समझा जा सकता है। उसे अनुभव किया जा सकता है। इन जानलेवा दवाओं के दुष्प्रभाव से जो दर्द जो पीडा़ जो तकलीफ आज हमारे बीमारियों से पीडित नागरिकों को हो रही है। और चिकित्सक असहाय नजर दिख रहा है। और अंत में जब वह अंतिम श्वास इस लिए लेने में मजबूर हो रहा है। उसे और चिकित्सा व्यवसाय में भिड़े चिकित्सको भी पता नही कि अनजाने में ऐसी जानलेवा दवाओं का प्रयोग करवाया गया है। जिसे एक डाक्टर ने अति आधुनिक खोज समझकर उसे बीमारियों से मुक्ति के लिए दिये थे। और वह जब जानलेवा सावित हो चुकी है। सरकार के इस विभाग चिकित्सा क्षेत्र के सभी एलोपैथी चिकित्सको को इसकी जानकारी उपलब्ध करवानी चाहिए। और उसके लिए तत्काल इन दवाओं को अपना दुष्प्रभाव शरीर में डाल रही हैं।उसे नष्ट करना चाहिए। और सुप्रीम कोर्ट ने हुक्म भी कर दिया। फिरभी आज इसका प्रयोग करवाया जा रहा है। इसकी जांच कर तुरंत दुकानों से बाहर करने वाले अधिकारी गण ही तर्क कुतर्कों से क्या साबित करना चाहते हैं,? इसे समझने से समय व्यतीत करने से मिले फायदो को समझने और समझाने से जो आज हो रहा है। उसे किसी भी कीमत पर माफ करना भी गुनाह होगा। जिसके लिए इस समाचार को पढ़ रहे हमारे पाठक मित्रों से गुजारिश है कि यदि आप इस मुहिम में जिसे आज हमारे पूरी दुनियां के वैज्ञानिको ने सिद्ध कर दिया है। और अंत में हमारे सर्वोच्च न्यायालय सुप्रीम कोर्ट ने अपने पूरी जांच पड़ताल में गलत पाया और 350 से अधिक दवाओं की सूची जारी करते हुए प्रतिबंधित कर दिया है। आप सभी पाठक मित्र इसे अपने अपने तरीके से सोचे और इस जानलेवा दवाओं से अपने स्वजनो मित्रों परिवार धर्म देश से मुक्ति दिलवाने में मदद करें। भारत देश पहले अंग्रेजों का गुलाम था अब अंग्रेजी दवाओं का। आज हमारे ऋषि मुनियों ने सभी धर्म शास्त्रों तक में असाध्य से असाध्य बीमारियों को जड़ से खत्म करने के लिए लाखो उपाय बताये हैं। प्रकृति तक ने उसका भंडार बिना किसी कीमत के हमें उपलब्ध करवाया है। यहाँ तक कि हमारे देश में इतनी किस्म की मिट्टी है जिसके प्रयोग से हजारों रोग गायब हो जाते हैं। हमारे देश में जल चिकित्सा से भी बीमारी खत्म होती है। हमारे देश के राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने इस नैसर्गिक उपचार पद्धति पर इतना जोर दिया है जितना किसी और पर नहीं। परंतु आज हमारे इस बापु के देश में ऋषि मुनियों संत महात्माओं की धरती पर ऐसे मौत के सौदागर जम कर जिंदगी के साथ खिलवाड़ कर रहे हैं। और गांधी बापु का पल पल नाम लेने वाले बापु की फोटो अपने कार्यालयों लगाकर नमन करने वाले उनके सिद्धांतो पर अमल करने के बजाय उनकी एक अलग चित्र को एकत्रित करने में अधिकांस लगते दिख रहे हैं। आज यदि हमारे देश को मनुष्य जाति को मजबूत बनाना है। समृद्ध और संपन्न देश बनाना है । फिर इस स्वदेशी अपनी मूल पद्धति को कम से कम अतिशीघ्र जोड़ना जरूरी होगा। और जिन दवाओं को प्रतिबंधित कर दिया है। उसके साथ इन अधिकारियों को जो आज सरकार और हमारे सर्वश्रेष्ठ सुप्रीम कोर्ट के फैसले को न मानकर मौत के सौदागर बने हैं। उन्हें उनके असली स्थान पर पहुंचे इसमें भी मदद करनी चाहिए। इस समाचार को अब किसी एक पर दोषारोपण करना जरूरी नही होगा। यह आज सभी की जवाबदेही है।

Sunday, June 30, 2019

नवसारी जिले के खोराक औषध नियमन तंत्र फुड एंड ड्रग के मुख्य अधिकारी आरटीआई के भंवर में बुरी तरह फसे ..? उच्च अधिकारियो ने पल्ला झाडा ? अब “जाये तो जाये कहां” ?

नवसारी जिले के खोराक औषध नियमन तंत्र फुड एंड ड्रग के मुख्य अधिकारी आरटीआई के भंवर में बुरी तरह फसे ..? उच्च अधिकारियो ने पल्ला झाडा ? अब “जाये तो जाये कहां” ?
 नवसारी जिले के सभी मुख्य अधिकारियों को हेड क्वार्टर के पास रहना अनिवार्य ..!

                  नवसारी जिले में आज वर्षों से मानवजीवन के साथ पशु पक्षियो के स्वास्थ्य के साथ खिलवाड किया जा रहा है । और सरकार ने इसकी जांच के लिये कायदेसर मददनीश कमिश्नर के साथ एक फौज खडी कर हर महीने लाखों रूपये वेतन के साथ राजाशाही सुविधाएं मुहैया करवा रही है । और आज गुजरात सरकार खरेखर एक लंबे कर्ज में होते हुए भी इनके वेतन और सुविधाओ में किसी भी प्रकार की कटौती नही करती । और यहां नवसारी जिले के खोराक औषध नियमन तंत्र फुड एंड ड्रग के मुख्य अधिकारी इसे बपौती समझकर अपने मौज मस्ती में आनंद ले रहे हैं। आज यह सभी को जानना जरूरी होगा कि यह मौज मस्ती के लिये नही है । न ही गुजरात सरकार के पास नोट छापने मशीन है न ही यह पेड पर उगता है । यह सभी इन सभी को मिलने वाला धन जिसे अपना हक समझ बैठे हैं । इसका एक एक रूपया गरीब दलित मजूर किसान आदिवासी अपने खून पसीने और मेहनत मसक्क्त से पैदा करते हैं। और यहां नवसारी जिले के खोराक औषध नियमन तंत्र फुड एंड ड्रग के मुख्य अधिकारी जिनकी कमाई का धन खा रहे हैं उन्ही को अपना पावर बता रहे हैं।

               पर्यावरण मानव अधिकार संस्था में आम जनता की फरियाद की सत्यता जानने के लिये जब एक रूबरू मुलाकात में जानने की कोशिस की तब पता चला कि यह महाशय वर्षों से कभी टाईम पर आते ही नही । और नवसारी जिले में रहना इनके स्वास्थ्य के लिये ठीक नही है । ये अपनी मर्जी के मालिक हैं। इनकी पहुंच काफी उपर तक है । असमाजिक तत्वो के भरोसे किसी को भी धमका दे देते है । कायदे कानून से काम करना इनकी फितरत में नही आती । नेताओ की तरह बोल गये अधिकारी श्री मददनीश कमिश्नर अब अपने ही जाल में फस गये । सूचना के अधिकार अधिनियम 2005 के मुताविक एक सूचना मागी गयी। नवसारी जिले के खोराक औषध नियमन तंत्र फुड एंड ड्रग के मुख्य अधिकारी श्री जो सूचना देने से छटकबारी करते हुये अपने ही मुख्य अधिकारी गांधीनगर और मददनीश श्रम आयुक्त नवसारी को भेज दिया । और शायद इन्हे पता नही के कोई भी उच्च अधिकारी ऐसे जाल में कभी फसना नही चाहता और यही हुवा कि इन्ही के उच्च अधिकारियो ने अपना पल्ला झाड लिया । और लिखित में इन्हे वापस कर दिया कि यह सूचना सिर्फ और सिर्फ आपके कार्यालय में है। और तत्काल सूचना उपलब्ध करवाई जाय । अब नवसारी जिले के खोराक औषध नियमन तंत्र फुड एंड ड्रग के मुख्य अधिकारी जो कि सरकार के नियम के मुताबिक नवसारी जिले के मुख्य कार्यालय से 3 से 5 किलोमीटर के अंतर मे रहना अनिवार्य है । प्रो-एक्टिव डिस्क्लोझर ओडिट करवाना । लघुत्तम मासिक वेतन के साथ सेवा का अधिकार जैसे कायदे कानून का पालन करना अनिवार्य है । नवसारी जिले में कम से कम महीने में इतनी जांच करना आवश्यक है । कायदे कानून की धज्जियां उडाने वाले अधिकारी श्री अब आरटीआई के भंवर में बुरी तरह फसते हुए नजर आ रहे हैं । अब “जायें तो जायें कहां” जैसी  हालत नजर आ रही है ।


ITi के प्रादेशिक अधिकारी को RTI के कमिश्नर ने हुकम में आरटीआई का पाठ पढाया..! बीलीमोरा ITI के अधिकारी पक्का बिल न लेकर सरकार को करोडो़ रूपये का चूना लगाया..

ITI के प्रादेशिक अधिकारी को RTI के कमिश्नर ने आरटीआई का नियम समझाया .!  बीलीमोरा के ITI के अधिकारी ने पक्का बिल न लेकर सरकार को लगाया  क...