Monday, February 28, 2022

" કુપોષણ મુક્ત નવસારી " અભિયાન અંતર્ગત જિલ્લા કલેકટર શ્રી અમિત પ્રકાશ યાદવના અધ્યક્ષસ્થાને બેઠક યોજાઇ




" કુપોષણ મુક્ત નવસારી " અભિયાન અંતર્ગત
જિલ્લા કલેકટર શ્રી અમિત પ્રકાશ યાદવના અધ્યક્ષસ્થાને બેઠક યોજાઇ



નવસારીઃ સોમવારઃ " કુપોષણ મુક્ત નવસારી " અભિયાન અંતર્ગત નવસારી જિલ્લા સેવા સદન નવસારી ખાતે જિલ્લા કલેકટર શ્રી અમિત પ્રકાશ યાદવના અધ્યક્ષસ્થાને બેઠક યોજાઇ હતી.
           બેઠકમાં જિલ્લા કલેકટર શ્રી અમિત પ્રકાશ યાદવે જણાવ્યું હતું કે, જિલ્લામાં ૧૩૦૬ જેટલા બાળકો કુપોષિત છે. નવસારી જિલ્લાને કુપોષણ મુકત બનાવવાના અભિયાનમાં એન.જી.ઓ., આંગણવાડી વર્કરો, ગામ આગેવાનોના સહયોગ લેવા જણાવ્યું હતું. લાલ ઝોનમાં રહેલા બાળકોને ગ્રીન ઝોનમાં કેવી રીતે લાવવા તે અંગે કલેકટરશ્રીએ માર્ગદર્શન આપ્યું હતુ. ૧ લી માર્ચથી ૩૧ મી મે સુધીમાં તમામ રેડઝોન વાળા બાળકોને ગ્રીન ઝોનમાં આવી જાય તે રીતે કામગીરી કરવાની રહેશે. આ માટે જિલ્લાના તમામ અધિકારીઓને કામગીરી સોંપવામાં આવશે. જયાં રેડ ઝોનમાં બાળકો છે તે ગામમાં પોષણમિત્ર અને આંગણવાડી કાર્યકરની મદદથી બાળકોની વિશેષ કાળજી રાખવા કામગીરી હાથ ધરાશે.
 કલેકટરશ્રીએ વધુમાં જણાવ્યું હતું કે, નવસારી જિલ્લાને કુપોષણ મુકત બનાવવા આખુ વહીવટીતંત્ર કામે લાગશે. આ કામગીરી જનઆંદોલનરૂપે હાથ ધરવામાં આવશે. તમામ અધિકારીઓને આ કામગીરીમાં જોતરાઇને કુપોષણ મુકત જિલ્લો દૂર કરવા અભિયાન હાથ ધરવા જણાવ્યું હતું.
 જિલ્લા વિકાસ અધિકારી શ્રી અર્પિત સાગરે કુપોષણ મુકત નવસારી જિલ્લા માટે હાથ ધરવાની કામગીરી વિશે ચિતાર આપ્યો હતો.
 આ અવસરે અધિક નિવાસી કલેકટર શ્રી કેતન જોષી, પ્રાંત અધિકારીશ્રીઓ, અધિકારીઓ/કર્મચારીઓ ઉપસ્થિત રહયા હતાં.






Saturday, February 19, 2022

અરજદારોના પ્રશ્નોનો હકારાત્મક રીતે નિકાલ કરવા અધિકારીઓને તાકિદ કરતાં જિલ્લા કલેકટર શ્રી અમિત પ્રકાશ યાદવ




અરજદારોના પ્રશ્નોનો હકારાત્મક રીતે નિકાલ કરવા
અધિકારીઓને તાકિદ કરતાં જિલ્લા કલેકટર શ્રી અમિત પ્રકાશ યાદવ 

નવસારી જિલ્લા સંકલન સહ ફરિયાદ સમિતિની બેઠક યોજાઈઃ
 
 નવસારીઃ- નવસારી જિલ્લા સેવા સદન, કાલિયાવાડી ખાતે જિલ્લા કલેકટરશ્રી અમિત પ્રકાશ યાદવના અધ્યક્ષસ્થાને જિલ્લા સંકલન સહ ફરિયાદ સમિતિની બેઠક યોજાઇ હતી. 
 જિલ્લા સંકલન બેઠકમાં રાજય સરકારશ્રીએ આપેલા લક્ષ્યાંક પૂર્ણ કરી સો ટકા સિધ્ધિ હાંસલ કરવા તમામ વિભાગોના અધિકારીઓને જણાવ્યું હતું. નવસારીના ધારાસભ્યશ્રીએ નવસારીના વેરાવળ પુલ પર રેલીંગ, પ્રાયોજના વહીવટદાર વાંસદા, નવસારી તથા બીલીમોરાના એસ.ટી. વિભાગ, નરેગા વિભાગ તેમજ અન્ય પ્રજાલક્ષી પ્રશ્નો રજૂ કર્યા હતાં. જેમાં મોટાભાગના પ્રશ્નોના હકારાત્મક રીતે નિકાલ કરવામાં આવ્યો હતો. 


 જિલ્લા કલેકટર શ્રી અમિત પ્રકાશ યાદવે અરજદારોના પ્રશ્નોના અધિકારીઓએ પોતાની જવાબદારી સમજી હકારાત્મક રીતે નિકાલ કરવા જણાવ્યું હુતું. તેમજ સરકારશ્રીની તમામ યોજનાના લાભાર્થીઓને સમયસર લાભ મળે તે માટે સબંધિત અધિકારીઓને ખાસ તાકિદ કરી હતી. જનપ્રતિનિધિઓના ફરિયાદોના ઝડપી નિકાલ માટે સમયમર્યાદામાં પૂર્ણ કરવા કલેકટરશ્રીએ અમલીકરણ અધિકારીઓને જરૂરી સૂચનાઓ આપી હતી.


 બેઠક દરમિયાન પડતર અરજીઓના નિકાલ, તુમાર સેન્સસ, પેન્શન કેસો, ખાતાકીય તપાસ, સરકારી લ્હેણાંની વસુલાત સહિતના મુદ્દાઓની ચર્ચા કરવામાં આવી હતી. 
 આ બેઠકમાં જિલ્લા વિકાસ અધિકારીશ્રી અર્પિત સાગર, જિલ્લા પોલીસ અધિક્ષકશ્રી ઋષિકેશ ઉપાધ્યાય, નિવાસી અધિક કલેકટરશ્રી કેતન જોશી, પ્રાંત અધિકારશ્રીઓ સહિત જિલ્લાના અમલીકરણ અધિકારીશ્રીઓ ઉપસ્થિત રહયાં હતા.



Friday, February 18, 2022

શ્રીપ્રતાપ હાઈસ્કૂલ વાંસદા ખાતે સ્નેહા પ્રોજેક્ટ અંતર્ગત સર્વ રોગ આયુર્વેદ નિદાન અને સારવાર કેમ્પ સંપન્ન










શ્રીપ્રતાપ હાઈસ્કૂલ વાંસદા ખાતે સ્નેહા પ્રોજેક્ટ અંતર્ગત સર્વ રોગ આયુર્વેદ નિદાન અને 
સારવાર કેમ્પ સંપન્ન
            આજ રોજ઼ શ્રી પ્રતાપ હાઈસ્કૂલ વાંસદા ખાતે માન.જિલ્લા વિકાસ અધિકારીશ્રી નવસારી ના માર્ગદર્શન હેઠળ જિલ્લા આયુર્વેદ અધિકારી શ્રી નવસારી દ્વારા સ્નેહા પ્રોજેક્ટ અંતર્ગત સર્વ રોગ આયુર્વેદ નિદાન અને સારવાર કેમ્પનું આયોજન કરવામાં આવ્યું. વાંસદા ના સરપંચશ્રી ગુલાબભાઇ તથા વાંસદા કેળવણી મંડળના પ્રમુખશ્રી નટુભાઈ પાંચાલ દ્વારા દીપ પ્રાગટ્ય કરી કેમ્પ ની શરૂઆત કરવામાં આવી. સાથે જ઼ સર્વે આમંત્રિત મહેમાનોનું વિક્સ તુલસીનો રોપો આપી સ્વાગત કરવામાં આવ્યું.જિલ્લા આયુર્વેદ અધિકારીશ્રી નવસારીના વૈદ્ય નયના આઈ પટેલ દ્વારા સ્નેહા પ્રોજેક્ટ અંતર્ગત ચાલતી વિવિધ તાલીમો વિશે અને આયુર્વેદ વિષયક વિગતવાર માહિતી આપવામાં આવી.
           આ કેમ્પ માન.જિલ્લા વિકાસ અધિકારીશ્રી હાજર રહી ઉપસ્થિત કિશોરીઓ સાથે સ્નેહા પ્રોજેક્ટ અંતર્ગત શાળા માં ચાલતી વિવિધ તાલીમો વિશે સંવાદ કર્યો અને કિશોરીઓ ને પ્રોત્સાહિત કર્યા. કેમ્પ અંતર્ગત કિશોરીઓની આરોગ્ય લક્ષી તપાસ કરી સારવાર આપવામાં આવી તેમજ આયુર્વેદ ઔષધિય રોપા નું વિતરણ કરવામાં આવ્યું. આયુર્વેદ ઔષધિય વનસ્પતિની ઓળખ માટે પ્રદર્શન તથા આયુર્વેદ ઔષધિય યુક્ત હર્બલ ટી નું વિતરણ કરવામાં આવ્યું. આંગણવાડી વર્કર દ્વારા કિશોરીઓને પોષણ યુક્ત આહાર આપવામાં આવ્યો.અને કિશોરીઓને વિવિધ રમતો રમાડવામાં આવી.આ કેમ્પ માં વાંસદા કેળવણી મંડળ ના ઉપપ્રમુખશ્રી રાજેશભાઈ ગાંધી, મંત્રીશ્રી ધર્મેશભાઈ પુરોહિત ટ્રસ્ટીશ્રી ધર્મેન્દ્રસિંહ સોલંકી અને કારોબારી સભ્ય કમલેશભાઈ ઉપાધ્યાય તથા પ્રા. શાળાના આચાર્ય સંદીપભાઈ હાજર રહ્યા હતા.કાર્યક્રમ ના અંતે શાળા ના આચાર્ય શ્રી મહેન્દ્રસિંહ પરમાર દ્વારા આભાર વ્યક્ત કરવામાં આવ્યો. આ કાર્યક્રમ ને સફળ બનાવવા માટે આયુર્વેદ ના મે.ઓ અને સટાફ તથા શાળાના શિક્ષકોએ ભારે જહેમત ઉઠાવી.

आनंदमय जीवन का रहस्य ...! बीमारियों से मुक्ति एकदम सरल और सहज





          मानव जीवन के रहस्य को जानकर आनंदमय जीवन एवम असाध्य बीमारियों से मुक्ति पायें 

        मानव जीवन परमपिता परमात्मा द्वारा दिया गया एक अवसर है । जीवन एक सराय है इसे सराय ही रहने दें। शास्त्रों के अनुसार आपको मनुष्य योनि बड़े भाग्य और आपके कई जन्मों के निरंतर प्रयास से एक अद्भुत भेंट के स्वरूप में मिली है। इसे व्यर्थ न जाने दें। एक एक पल बहुत ही महत्वपूर्ण है। इसका आनंद लें। और यह आनंद भी ऐसे तो बहुत ही सरल है। परंतु क्या हम इसे अभी तक इसके स्वाद को चख पाते हैं। जवाब में अक्सर नहीं ही मिलता है। आखिर क्यों ? इसके लिए तथाकथित धार्मिक शास्त्र धर्म पद प्रतिष्ठा समाज और तथाकथित धार्मिक गुरु ही हैं जो आपको जन्म के साथ अपने फंदे में अपने जाल में कुछ इस तरह फंसा लेते हैं कि यह आधुनिक मनोवैज्ञानिक कहते हैं कि यह आपके अवचेतन मन में घर बना लेता है। और आजीवन इसके बाहर निकल नहीं पाते। और एक कुंए की मेंढक की तरह कूंए को ही अपना संसार मान कर इस विराट जीवन को पूरा कर देते हैं।
       आनंदमय जीवन प्राप्त करना अथवा मिलना आज यदि असंभव नहीं है फिर भी मुश्किल अवश्य है। जैसे एक बिल्ली के ऊपर प्रयोग में बिजली के गरजने की आवाज से डर लगता है। उसके सामने जोर से आवाज सुनाने में वह पूरा घबरा जाती है । एक अच्छी संगीत की आवाज पर ध्यान मग्न होकर नाचने लग जाती है। परंतु जब उसके सामने सभी प्रकार की आवाज अथवा संगीत के साथ बिल्ली के सामने एक चूहा छोड़ दिया गया । बिल्ली सभी आवाज डर नृत्य को इग्नोर कर देती है और चूहे को लपक लेती है। अहिंसा संगीत सभी अलग पड़े के पड़े रह जाते हैं। सभी बंधन टूट जाते हैं। आखिर क्यों? यही हालत आज पूरे मानव जाति की है। पूरे मानव जीवन को आज सदियों से एक तथाकथित सभी धर्म के धार्मिक गुरुओं के द्वारा बांध दिया गया है।यह बंधन इतना गहरा है कि अब तो कभी कभार बुद्ध और महावीर, कृष्ण, कबीर, सूरदास, रैदास, मीरा जैसे परम आत्माओ को ही दिखाई देता है। हालांकि यह बहुत ही आसान और सरल सहज है।
          क्या आप अपने जीवन को आनंदमय बनाना चाहते हैं ? इस भागदौड़ की जिंदगी के रहस्य को जानना चाहते हैं ? स्वस्थ जीवन शैली को अपनाकर आनंदमय जीवन की तलाश में हैं ? देर न करें आज और अभी से शुरूवात करें । इस भव्य विराट जिसे एक भेंट स्वरूप अवसर के रूप में परमात्मा के द्वारा दी गई है। व्यर्थ न जाने दें। सहजता के साथ शुभारंभ करें। और कहीं भी कभी भी कुछ अड़चन दिखाई दे।आप किसी असाध्य बीमारी से पीड़ित हैं। चिकित्सकों ने आजीवन दवा खाने की सलाह दी है। जरा भी चिंता न करें। बीमारी जहां है। सवाल जहां है जवाब भी वही है। बीमारी यदि आपके शरीर के भीतर है फिर उसकी दवा भी वही है। फिलहाल इसे समझना इतना आसान नहीं है। जब तक उसे अंदर से ठीक न किया गया बाहर की सभी पद्धति दवा बेकार है। आइये जिसने दर्द दिया है जहां से यह बीमारी पैदा हुई है। सबसे पहले उसे वहीं से ठीक करने की कोशिश करें।
संपर्क करें
डा आर आर मिश्रा
लोकरक्षक हेल्थ केयर
एवम आध्यात्मिक चिकित्सा केंद्र
अलकापुरी सोसायटी विजलपोर नवसारी
संपर्क सूत्र +91 9898630756




Wednesday, February 16, 2022

નવસારી જિલ્લા પંચાયત R&B ના પર્દાફાશ..! વિકાસ અને સમૃદ્ધતાનો પાયા સાથે ભ્રષ્ટાચારનો જવાબદાર સામે કાર્યવાહી ક્યારે...?






નવસારી જિલ્લામાં દર વર્ષે સરકાર કરોડો રૂપિયા ફક્ત રોડ ઉપર ખર્ચ કરે છે.રોડ ઉપરના કામો માં લાખો નાગરિકોને રોજી રોજગાર મળે છે.મોટા ભાગના રોડ ઉપર કામ કરતા રોજી મેળવવા માં આદિવાસી દલિત શોષિત વંચિત આર્થિક પછાત વર્ગના નાગરિકો જ હોય છે.એ મજુરો માટે ગુજરાત રાજ્ય સરકાર અને ભારત સરકાર દ્વારા પ્રાથમિક સુવિધાઓ ઉપલબ્ધ કરાવવા સાથે એમને લઘુત્તમ માસિક વેતન શ્રમ કાર્ડ, કર્મચારી રાજ્ય બીમા નિગમની સુવિધાઓમાં, સારવાર માટે સારા માં સારી હોસ્પિટલ સાથે રહેવા માટે સરકારી મકાન એમના બાળકો માટે મફત શિક્ષણ, અને શિક્ષણ માટે પહેરવા માટે યુનિફોર્મ, સાધનો સાથે દર મહિને વર્ષે પુરતું નાણાં, પોષક આહાર ટ્રાન્સપોર્ટની મફત સુવિધાઓ વિગેરે માટે પણ કરોડો રૂપિયાના ફંડ અલગ થી આપી રહી છે. ખાસ કરીને ગુજરાતમાં ગુજરાત સરકાર માનવીય જીવનમાં તમામ સુવિધાઓ માટે જુદા જુદા વિભાગો અને એ વિભાગ માટે કરોડો કરોડો રૂપિયા અલગથી ગ્રાન્ટ અને એ તમામ વિભાગ સુચારુ રીતે આગળ વધે એના માટે તમામ વિભાગો મા સર્વોચ્ચ શિક્ષણ ધરાવતા અધિકારીઓ સાથે એક સારી ટીમની રચના કરી છે. ખરેખર ગુજરાત રાજ્ય સરકાર ગરીબી દૂર કરવા માટે તમામ વિભાગો આયોજન સાથે થતો ખર્ચ કાબિલે તારીફ છે. પરંતુ જમીની હકીકત માં એમાં આજે દરેક વિભાગમાં સમાવેશ બાપુ દર્શન અને સેટિંગ ડોટ કોમ થી નિમણૂંક અધિકારીઓ સરકારની તમામ યોજનાઓ ઉપર કાયદેસર કાર્યવાહી અને એક બીજાની મિલીભગત થી થતા ભ્રષ્ટાચાર થી એ બધી કરોડો અરબો રુપિયાનો ફંડ ફક્ત ફાઈલો માં જ દમ તોડી રહી છે. એનો પરિણામ માં ગરીબ હાઉ ગરીબ અને અમીરો વધુ અમીર જોવા મળે છે. એક સામાન્ય ઇજનેર કે અંગુઠા છાપ રોડ કોન્ટ્રાક્ટર ટુંક સમયમાં અરબપતિ થઇ જાય છે.અને પાયાના મજુર બે ટાઇમ રોટલા દવા વગર આજે ઠેર ઠેર મૃત્યુ પામે છે.


      નવસારી જિલ્લા પંચાયત માં આજે વર્ષો થી ભ્રષ્ટાચાર ચરમસીમાએ પહોંચ્યો છે. અને મોટા ભાગના અધિકારીઓ પોતાની ફરજ બજાવવા કરતા વધુ એમના ઉપરી અધિકારીઓ અને નેતાઓની પરિક્રમા કરતા નજરે પડે છે. મોટા ભાગના અધિકારીઓને સામાન્ય કાયદાઓની પણ ખબર નથી. લઘુત્તમ માસિક વેતન ધારો ૧૯૪૮ થી ચાલે છે. જેમાં મજુરોને તમામ સુવિધાઓ ઉપલબ્ધ કરાવવાની અને દેખ દેખ કરવાની જવાબદારી રોડના કામો હોય કે બિલ્ડીંગની સંપૂર્ણ જવાબદારી જે તે કચેરી ના વડાની છે. પરંતુ અહીં બાપુ દર્શન અને આરક્ષણ કે સેટિંગ ડોટ કોમ થી નિમણૂંક અધિકારીઓ એ કાયદો જાણવા માટે કે સમજવા માટે ગુનો સમજે છે. મજુર કાયદાઓ મંજૂર હોવા છતાં એક પણ અધિકારી એવા કાયદાઓ જોવા પણ રાજી નથી. જે આજના મોંઘવારી મહામારી બેરોજગારી સમય માં ખરેખર દુર્ભાગ્યપૂર્ણ અને શરમજનક છે. મોટા ભાગના અધિકારીઓ પણ આજે એજ કેટેગરીમાં થી આવે છે. છતા આજે અધિકારીઓ એવા કાયદાઓ સમજવા કે અમલવારી કરાવવા રાજી નથી. અને એના પાછળ ફક્ત અને ફક્ત ભ્રષ્ટાચાર છે. ચંદ રુપિયાની લાલચ માં અધિકારીઓ આજે માનવીય જીવનના પરોક્ષ રીતે હત્યા કરી રહ્યા છે.
નવસારી જિલ્લા માં જિલ્લા પંચાયતના માર્ગ અને મકાન વિભાગ દ્વારા નેશનલ હાઇવે ને અડીને ધોળા પીપળા થી વાઘરેજ સુધી જે નવસારી બારડોલી રોડના સોર્ટ કટ રસ્તા છે. મોટા ભાગના અધિકારીઓ અને કોન્ટ્રાકટર દ્વારા ભ્રષ્ટાચાર માં બનાવવામાં આવે છે.જેથી એ રોડ દર વર્ષે ટૂટી જાય છે. અને જિલ્લા પંચાયત માં વહીવટી કામગીરી નબળી હોવાથી એ વધુ જોવા માટે લાખો રૂપિયા વેતન સાથે રાજાશાહી સુવિધાઓ ધરાવતો અધિકારીઓ કચેરી અને ફાઈલ સુધી જ જોવા મળે છે. જમીન ઉપર જોવા માટે મુહુર્ત નથી મળતી. જેના કારણે એ રોડ અને ખર્ચ સાથે માનવ અધિકારનો કાયદેસર અહિં હત્યા કરવામાં આવી રહી છે. ગરીબ મજુરોને સરકાર દ્વારા કાયદેસર આપવામાં આવતી તમામ સુવિધાઓ ઉપલબ્ધ છે કે કેમ ?એ વધી જવાબદારી જે-તે કચેરી ના વડાની હોવા છતા હજુ સુધી માનવ અધિકાર સંસ્થા દ્વારા લેખિત રજૂઆત કરવામાં આવી છે. હજુ સુધી મજુરો ઉપર ભ્રષ્ટાચાર કે એમની વિગતો નજીક પોલીસ સ્ટેશન માં આપેલ છે કેમ..? મજુરોને પાયાની સુવિધાઓ ઉપલબ્ધ છે કે કેમ..? એવી તમામ સુવિધાઓ સૂત્રો દ્વારા જણાવ્યા મુજબ આપવામાં આવેલ નથી. હવે નવસારી જિલ્લા પંચાયતના માર્ગ અને મકાન વિભાગના વડાને રજૂઆત કરવામાં આવી છે. પરંતુ હજુ સુધી તપાસ કે કોઈ પોલિસ ફરિયાદ પણ નોંધવામાં આવેલ નથી. હાલમાં જ નવસારી માં એવી રીતે મજુરો વચ્ચે મજુર ના રુપે કામગીરી કરતા મોટા મોટા ચોર પકડાયા હતા. મજુરો માં આસાનીથી મળી કામ કરતા કરતા આજે આતંકવાદીઓ આજે રેકી કરી મોટા મોટા ભયંકર ત્રાસદીના કામો કરવા ના સમાચારો સાંભળવા મળે છે. જેના કારણે સરકાર ના કાયદા મુજબ દરેક દરેક મજુર હોય કે કર્મચારીઓ એની સંપૂર્ણ વિગતવાર માહિતી નજીકના પોલીસ સ્ટેશનમાં આપવો ફરજીયાત છે. પરંતુ એવી કોઈ માહિતી મળી આવી નથીહવે ગુજરાત રાજ્ય સરકાર સમાચારની ગંભીરતા થી નોંઘ લઈ આદિવાસીઓ દલિતો વંચિત શોષિત પીડિત આર્થિક પછાત વર્ગના મજુરો, કર્મચારીઓને પ્રાથમિક સુવિધાઓ ઉપલબ્ધ ન કરાવવા સાથે હલ્કી ગુણવત્તાનો રોડ બનાવતા કોન્ટ્રાકટર ઉપર કાર્યવાહી કરશે કે ફરિયાદ દબાવવા માટે ફરીથી દર્શન આરતી પૂજા પાઠ યજ્ઞ હવન કરાવી માઢવાડ કરશે એ જોવાનું બાકી રહ્યુ..

Saturday, February 12, 2022

गुजरात राज्य की आर्थिक ऐतिहासिक समृद्धि पारदर्शी सर्वांगी विकसित सूरत जिला पंचायत में RTI को अधिकारियों ने किया बदनाम...!


मार्ग और मकान (पंचायत) सूरत
 RTI के भंवर में 

गुजरात राज्य में विकास समृद्धि पारदर्शिता सर्वांगी सबका विश्वास सबका प्रयास सबका साथ जैसे संवेदनशील सरकार को प्रशासनिक अधिकारियों ने बदनाम करने हेतु कमर कसी ..!

        आज सूचना अधिकार अधिनियम 2005 संसद द्वारा पारित जन हित के कायदे-कानून को  करीबन 16 वर्ष बीत चुके हैं। परंतु गुजरात राज्य के अधिकांश अधिकारी गण इस अधिनियम का दिल खोलकर एक जुमला बना दिया है। और संवेदनशील सरकार की धज्जियां उड़ाते नजर आ रहे  हैं। उसका प्रमुख कारण इन अधिकारियों की नियुक्ति अधिकतर इनकी शिक्षा और अनुभव से अधिक दर्शन पूजा अर्चना यज्ञ हवन जैसे पवित्र कामों को माना जाता है। यहां आज 21वी सदी में भी 60:40 का कायदा अभी भी पालन किया जाता है। जबकि आज बेरोजगारी अपने अंतिम चरण पर पहुंच चुकी है। सूरत जिला पंचायत में फिलहाल सरकार सर्वोच्च शिक्षा प्राप्त सर्वश्रेष्ठ अधिकारियों की नियुक्ति किया है। परंतु आज भ्रष्टाचार को रोकने में सरकार की हर कोशिश नाकाम नजर आ रही है। फरियादो का अंबार लगा हुआ है। जिसकी सत्यता जानने के लिए सूचना अधिकार अधिनियम 2005 जिसका जिक्र भारत देश ही नहीं अपितु विश्व प्रख्यात प्रधानमंत्री श्री मोदीजी करने में कभी नहीं चूकते। "आर टी आई का मतलब सवाल पूछने का अधिकार" जैसे जन हित में कहने वाले विश्व के प्रथम प्रधानमंत्री श्री मोदीजी ही है । अभी कुछ दिन पहले ही गुजरात राज्य के मुख्यमंत्री श्री भूपेन्द्र पटेल जी ने आरटीआई ओनलाइन करवाते हुए विशेष बल दिया है। परंतु यहां आज तक हर जगह सभी कार्यालयों में अन्त में "ढाक के तीन पात" ही नजर आते हैं। सूरत जिला पंचायत आज करीबन 75% नागरिकों की शिक्षा सुरक्षा स्वास्थ्य जिसे मानव जीवन में प्रमुख भूमिका होती है। इसकी समस्त जवाबदेही आज जिला पंचायत की होती है। और सरकार भी सभी अधिकारियों को दिल खोलकर समय से वेतन और तमाम राजाशाही सुविधाएं मुहैया करवाती है। और जो सुविधाएं सरकार नहीं देती उसे यहां अधिकारी गण अवैध तरीके से ले रहे हैं। जैसे गुजरात राज्य सरकार के कायदे-कानून के मुताबिक अग्र सचिव अथवा उसके समकक्ष के सिवाय किसी भी अधिकारी के कार्यालय और वाहनों में एरकंडीशन की सुविधा उपलब्ध नहीं करवाई जाती। परंतु जमीनी हकीकत में जिला पंचायत के तलाटी एवम सरपंच अपने कार्यालय में लगवा कर बैठे है। गुजरात राज्य के विकास कमिश्नर श्री ने स्पष्ट हुक्म किया है कि  वाहनों एवम कार्यालय से तत्काल बाहर करें अन्यथा सभी प्रकार का खर्च और विजली बिल  वेतन से वसूली की जायेगी। परंतु इस हुक्म को आज दो वर्ष से इस हुक्म को जिला पंचायत के अधिकतर अधिकारियों ने मानना संगीन जुर्म समझते हैं। और भ्रष्टाचार विरूद्ध RTI में अरजदार को सुप्रीम कॉर्ट का नियम कानून बता रहे हैं। सूचना अधिकार अधिनियम में गुजरात राज्य सरकार के नायब सचिव वी सी पटेल वर्ष 2012 में सभी सूचना संबंधित अधिकारियों को नाम पद टेलीफोन नंबर लिखने का एक हुकमनामा  दिया है। परंतु सूरत जिला पंचायत के मार्ग और मकान विभाग जिनकी मुख्य जवाबदेही विभाग के नाम से जिला विकास अधिकारी के नाम से ही प्रदर्शित होता है।  मकान और मार्ग जिसका विकास में मुख्य भूमिका होती है। उन्हें अपना नाम लिखने में कितनी मुश्किल लगी होगी। सदर कार्यालय के जांबाज अनुभवी महोदय को शायद इस कानून के बारे में न जानकारी है न ही इनके ऊपरी अधिकारियों का कोई भय है। जानकारों की मानें तो यहां भी अधिकारियों की शिक्षा से ज्यादा बापू दर्शन की जरूरत को प्राथमिकता दी जाती है। अन्यथा ऐसा जवाब महोदय सपने में भी न देते। फिलहाल ऐसे अधिकारियों की वजह से चारों तरफ अफरा तफरी का माहौल बना हुआ है। और सरकार दिन दहाड़े बदनाम हो रही है। गुजरात राज्य की आर्थिक संवेदनशील जिला सूरत आज फिलहाल दयनीय स्थिति में गुजर रहा है। यदि सरकार तत्काल ऐसे अधिकारियों को जिनको अपनी जवाबदेही गुजरात राज्य सरकार जिन्होंने इनकी नियुक्ति कर बिनजरूरी वेतन और सुविधाएं मुहैया करवा रही है उससे ज्यादा इन्हें सुप्रीम कोर्ट का बिन जरुरी जिस कायदे-कानून का यहां कोई औचित्य तक नहीं है उसे अरजदार को बताकर क्या साबित करना चाहते हैं? फिलहाल यह अब उनकी रूबरू मुलाकात में तय होगा। परंतु उनके द्वारा हस्ताक्षरित पत्र साफ साफ गवाही दे रहे हैं कि उन्हें आरटीआई के कायदे-कानून की जानकारी नहीं होगी अथवा आरटीआई कार्यकर्ताओने उन्हें बताया नहीं होगा। सदर महोदय ने सुरत जिले के सभी अपने कार्यालयों में भी इसे भेजा है। देखना दिलचस्प होगा कि इनके सहयोगी दल किस प्रकार से जवाब देते हैं। 

 

Friday, February 11, 2022

गणदेवी तालुका विकास अधिकारी श्री के कार्यालय में एरकंडीशन गैरकानूनी, लोक सूचना अधिकारी श्री को RTI RCPS ESIC, UNLEAGAL CONSTRUCTION की जानकारी न होने के बावजूद नियुक्ति पर लगा सवालिया निशान ? गुजरात राज्य में समृद्धि पारदर्शिता सर्वांगी विकास को अधिकारियों ने बनाया एक जुमला!



गणदेवी तालुका विकास अधिकारी श्री का कार्यकाल और लोकसूचना अधिकारी का बोर्ड अदृश्य की एक तस्वीर



गणदेवी तालुका विकास अधिकारी श्री के कार्यालय में एरकंडीशन गैरकानूनी

लोक सूचना अधिकारी श्री को RTI, RCPS, ESIC, UNLEAGAL CONSTRUCTION की जानकारी न होने के बावजूद नियुक्ति पर लगा
 सवालिया निशान..?
गुजरात राज्य में समृद्धि पारदर्शिता सर्वांगी विकास को अधिकारियों ने बनाया एक जुमला..!

    गुजरात राज्य एक जमाने से अपने भौगोलिक कारणों से, एक विशाल जन समुदाय को रोजगार प्रदान करने वाला, एक विशालकाय समुद्र से घिरा, समुद्र के नजदीक और अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे मुंबई महाराष्ट्र का एक प्रमुख भाग होने एवम एक संस्कार संवेदनशील गंभीर प्रभावशाली व्यापार की दृष्टि में सर्वोच्च जैसे कई कारणों से एक विकसित राज्य बना हुआ है। इसे आज एक गीत की तरह सरकार के कुछ विशेष नेता सभी जगह अपनी विशेष पहचान और उपलब्धि की तरह गाने से कभी नहीं चूकती । परंतु समय परिवर्तन संसार का नियम है। आज हालत बद से बद्तर होती जा रही है। जिसका एक उदाहरण नवसारी जिले के कुछ सर्वोच्च अधिकारियों का आज लाखों रुपए वेतन के साथ राजाशाही सुविधाएं सरकार दिल खोलकर दे रही है। सरकार का प्रशासनिक अधिकारियों के प्रति दया भावना आज सरकार को बदनाम करने में कमर कसी है।और उसके बदले में सरकार के सर्वोच्च अधिकारी ही इसे जुमला बना दिया है।  आज कायदे-कानून की मानें तो सूचना अधिकार अधिनियम 2005 जिसे संसद से पारित किया गया है। वैसे इसका इतिहास हमारे संविधान में निहित है। संविधान की धारा 19 से 21 तक देश के सभी भारतवासियों को स्वतंत्रता का अधिकार पहले से दिया गया है। परंतु 2005मे इसे एक नये कानून के रूप में न्याय दिलाने सभी प्रकार के दस्तावेज खर्च को जानने का अधिकार दिया गया है। सूचना अधिकार अधिनियम में यदि सिर्फ और सिर्फ धारा 4 को यदि लागू करवा दिया जाये फिर कानून के जानकारों की मानें फिर लगभग 75% भ्रष्टाचार बंद अपने आप हो जायेगा। परंतु आज हालत बद से बद्तर होती जा रही है। संविधान में सिर्फ शासन की डिग्री शिक्षा का जिक्र नहीं किया। आज इसका पूरा फायदा प्रशासन के अधिकारी दिल खोलकर उठा रहे हैं। जिसका एक उदाहरण नवसारी जिले के गणदेवी तालुका में प्रत्यक्ष नजर आया। गुजरात राज्य सरकार की निति और नियम आज कहां खो गई। जनहित की सरकार आदिवासियों मजूरों दलितों आर्थिक पिछड़े वर्गों की सरकार के सर्वोच्च अधिकारी बिना किसी डिग्री अनुभव किसी जानकारी विना आज सीधे एक एतिहासिक गणदेवी तालुका का विकास अधिकारी नियुक्त कर दिया। जिसका एक उदाहरण एक सूचना अधिकार अधिनियम में मांगी गई सूचना से मिली। लोक सूचना अधिकारी गणदेवी तालुका से मानव अधिकार संस्था NGO के प्रदेश अध्यक्ष द्वारा रूबरू मुलाकात में पता चला कि आज तक लोक सूचना अधिकारी गणदेवी तालुका विकास अधिकारी श्री को RTI RCPS ESIC UNLEAGAL CONSTRUCTION जैसे संगीन भ्रष्टाचार विरोधी कानून के मुद्दे पर कोई जानकारी नहीं है। और गुजरात राज्य के मुख्यमंत्री श्री पारदर्शिता बनाने के लिए कुछ दिन पहले ही ओनलाइन आरटीआई करवाई है। हालांकि अभी तक यह ओनलाइन आरटीआई करना अभी भी मुश्किल है। और भविष्य में जब सरकार के अधिकारियों को कायदे-कानून का पता नहीं है फिर बिना किसी जानकारी के यह पारदर्शी विकसित समृद्धि गुजरात कब तक ऐसे बिनजरुरी अधिकारियों के सहारे चल पायेगा इसे फिलहाल समय पर छोड़ने के सिवा कोई विकल्प नहीं है।
         नवसारी जिले में गणदेवी तालुका विकास अधिकारी के कार्यालय में एरकंडीशन अवैध गैरकानूनी पाया गया। सूचना अधिकार अधिनियम 2005 की अभी तक लोक सूचना अधिकारी गणदेवी तालुका विकास अधिकारी श्री को अभी तक कोई जानकारी नहीं है। इसे उन्होंने बहुत ही नियमबद्ध तरीके से प्रस्तुत किया। अवैध निर्माणों पर कार्रवाई करने वाले कानून के बारे में जानकारी को सरेआम इंकार कर दिया। ऐसे जन हित में कुछ महत्वपूर्ण सवालात पूछे गए। परंतु लोक सूचना अधिकारी गणदेवी तालुका विकास अधिकारी श्री ने हालांकि अभी तक उन्हें ऐसी किसी भी जानकारी न होने का जोर शोर से दावा किया बल्कि उल्टे RTI AGAINST CORRUPTION की मुहिम चलाने वाले से पूछा भी ऐसी जानकारी रखना जरूरी है और इसे तत्काल बताना जरूरी है  ऐसा कहां लिखा है ? 
यह सभी सूचनाएं उनके कार्यकाल से उनके कार्यकाल में मांगी गई है और इसका जवाब कुछ इसी प्रकार से ही उसमें दिया है। और प्रथम अपील अधिकारी नायब जिला विकास अधिकारी श्री ने कायदे-कानून की धज्जियां उड़ाते हुए उनका पक्षपात लेते हुए जवाब दिया है। जिसकी कोई जानकारी नवनियुक्त अपील अधिकारी नायब जिला विकास अधिकारी श्री को भी नहीं है। यह सभी लिखित मिला है। यह शायद कमजोर याददाश्त को दर्शाता है। 
           सूचना अधिकार अधिनियम 2005के नियम 4 ख  की सूचना अनिवार्य होना चाहिए। अंत में उन्हें सभी नियमों के लिए भारत के सर्वोच्च न्यायालय गुजरात राज्य सरकार के आदेश भी बताया गया। अंत में लोक सूचना अधिकारी गणदेवी तालुका विकास अधिकारी श्री ने आश्वासन दिया कि यदि सरकार कभी भी ऐसी कोई जानकारी मुहैया करायेगी उसके लिए जरूर समझने की कोशिश की जायेगी। हालांकि अभी तक उन्हें पता नहीं है कि ऐसी सभी जानकारी के विना नियुक्ति गैरकानूनी है। और इस पर तत्काल सरकार संज्ञान लेगी। और ऐसी सभी नियुक्ति को पुनः रद्द करने का प्रावधान है। फिलहाल सरकार इस समाचार पर क्या संज्ञान लेती है ?  इसके ऊपर फिलहाल सभी की नजरें अवश्य बनी रहेगी।

Thursday, February 10, 2022

गुजरात राज्य की ऐतिहासिक संस्कारी नगरी नवसारी जिले में ICDS कंपनी की एक बहुमूल्य सरकारी इमारत मात्र 09 वर्ष में लकवा ग्रस्त...!



नवसारी जिले में ICDS कंपनी की एक बहुमूल्य सरकारी इमारत मात्र 10 वर्ष में लकवा ग्रस्त की तस्वीर जिसमें बोर्ड आज भी शानदार



गुजरात राज्य की बहुमूल्य ICDS कंपनी गणदेवी की सरकारी इमारत मात्र 9 वर्ष में लकवाग्रस्त
ICDS कंपनी गणदेवी की के सारे कार्यालयों में CC- TV  नदारद

ICDS कंपनी में 99.90% आंगनवाड़ी से लेकर जिले की मुख्य अधिकारी एवम् जिला विकास अधिकारी तक महिलाएं अग्रसर फिर भी सभी स्थानों पर सीसी टीवी अनिवार्य होने के बावजूद सीसी टीवी न होना सरकार की महिला सशक्तिकरण योजना के सामने
 सवालिया निशान..?

ICDS कार्यालय  गणदेवी में RTI, RCPS, ESIC जैसे कानून की
NO ENTRY
भ्रष्टाचार का एक मुख्य कारण 21वी सदी आधुनिक वैज्ञानिक युग में 18 वी सदी का कानून
               गुजरात राज्य की ऐतिहासिक संस्कारी नगरी नवसारी जिला जिले के रूप में बनकर तीसरे दशक में प्रवेश हो चुका है। हालांकि तालुका से लेकर केन्द्र सरकार तक विश्व की सबसे बड़ी पार्टी का आज एक क्षत्र राज है। परंतु नवसारी जिला भारत सरकार द्वारा चलाया जा रहा विभाग जैसे भारतीय रेल, भारतीय पोस्ट, भारतीय डाकतार विभाग वगैर में अभी तक  नवसारी जिला हो पाना जागृति नागरिकों की मानें तो अभी भी नहीं है। क्यों कि एक नवसारी से नवसारी का रजिस्टर पोस्ट भी 21वी सदी के डिजिटल युग में वलसाड़ जाने के बाद ही वापस नवसारी डिलीवरी दिया जाता है। जहां जहां कार्यालय के सामने भारतीय शब्द हो वहां नवसारी आज भी जिले के रूप में नहीं है । उसी प्रकार 61 वर्षों के बाद भी गुजरात राज्य में अधिकतर नियम मुंबई के नाम पर चलाये जा रहे हैं। और भारत देश की मानें तो आज भी हम अंग्रेज़ो के बनाये लगभग अधिकतर नियमों के मुताबिक ही काम करते हैं । आज एक महामारी से दूसरे के भरोसे, दूसरे के नियम कानून को मानने वाले सबसे देश अधिक तंगी में देखे जा रहे हैं।
          नवसारी जिले में लगभग 2010-2011 वर्ष में एक शक्तिशाली मजबूत दमदार विश्वसनीय भवन सरकार के सबसे अनुभवी मजबूत  शिक्षित अधिकारियों द्वारा गणदेवी तालुके में ICDS सेनीटेशन भवन के रूप में बनाया है। और गुजरात राज्य के संबंधित अग्रणी राज नेताओं के उपस्थित में (राजनेता हालांकि लिखना मजबूरी है) मकान से अधिक शिलान्यास में खर्च कर किया गया । विशाल भवन निर्माताओं और मजबूत इरादों वाले जांबाज देशभक्त अधिकारियों की देखरेख में ईंट पत्थरों एवम सदियों तक चलने वाले सीमेंट से बना यह मजबूत मकान हालांकि अभी शेरों की भांति अभी भी उसी स्थान पर डट कर खड़ा हुआ है । परंतु इतने मजबूत अनुभवी इरादों से बना भवन खाली क्यों किया गया । अभी तक इस रहस्य को जानने के लिए अधिकारियों द्वारा पता नहीं चल पाया है। उसके लिए सूचना अधिकार अधिनियम २००५ द्वारा सूचना मांगी गई है।             

     नवसारी जिले में आज अधिकारियों की हालत कुछ राजनीतिक दलों के नेताओं जैसी हो चुकी है। जिसकी वजह से आज सर्वोच्च अधिकारी भी कायदे-कानून से काम करने के बजाय नेतागीरी करने में विश्वास करते हैं। और अधिकतर नेताओं की रहनुमाई से नियुक्ति होने की वजह से अपने काम से ज्यादा नेताओं का चक्कर कुछ इस तरह लगाते हैं जैसे किसी भव्य मंदिर का।


      नवसारी जिले में आज वर्षों से ICDS कंपनी में जमकर भ्रष्टाचार हो रहा है। और इसकी जांच कई वर्षों से गुजरात राज्य की सतर्कता आयोग कमिश्नर श्री द्वारा की जा रही है। हालांकि गुजरात राज्य सतर्कता आयोग कमिश्नर श्री कार्यालय इस पर कमिटी बनाई गई है। परंतु जमीनी हकीकत में अभी तक यह जांच सिर्फ फाइलों से बाहर जमीन पर नहीं उतर पाई है। ICDS कंपनी में करोड़ों रुपए का भ्रष्टाचार हुआ है। इसके कई सबूत मिले हैं। जिसमें एक नया अध्याय इसके भवन निर्माण में एक और जुड़ा है। अब देखना दिलचस्प होगा कि आज नायक की भुमिका में दर रोज चल रही खबरो के अनुसार यह राज नेता गरीबो मजदूरो आदिवासियो दलितो आर्थिक पछात जैसे वर्ग के लिये जमीनी हकीकत में सिर्फ और सिर्फ प्राथमिक सुविधायें भी मुहैया करवा पाते हैं कि सिर्फ फोटोग्राफी तक सीमित रहेंगे ।



Monday, February 7, 2022

નવસારી વિજલપોર નગરપાલિકામાં ભ્રષ્ટાચાર માં મોટા ભાગે અધિકારીઓની મિલીભગત ...!

નવસારી વિજલપોર નગરપાલિકાના જમશેદજી ટાટા નામે તળાવ પાણી વગર નો દરિયા,પંખ વગર ની પંક્છી જેમ અસહાય અનાથ  બેસહારા 

નવસારી વિજલપોર નગરપાલિકામાં વહીવટી કામગીરી કાબીલે તારીફ ભ્રષ્ટાચાર માં પહેલા નંબરે નજરે પડી રહી છે. દુધિયા તળાવ માં પાણી જરૂર મુજબ રોકવામાં આવી શકે નહિ. આજે સરકાર મોટી મોટી નદીઓ ને જોડવામાં સફળ છે. પરંતુ અહીં ફક્ત એક જ પાઈપ લાઈન જોડવાની જરૂર છે. જેના થકી પાણી પોતે ભરાઈ અને ખાલી થઈ શકે છે. પરંતુ પરમોશન અને બાપુ દર્શન થી નિમણૂંક અધિકારીઓ ને એક સામાન્ય બાબત ખબર નથી.અને પીવાના પાણી માટે તકલીફ નાગરિકો ને પડે અધિકારીઓ પોતાની કચેરી માં એરકન્ડીશન ગેરકાયદેસર કેવી રીતે વાપરી શકે જ્યારે ગરીબો આદિવાસીઓ દલિતો વંચિત શોષિત પીડિત આર્થિક પછાત વર્ગ ના નાગરિકો પીવાના પાણી માટે તરસી રહ્યો છે. અસંવેદનશીલ વહીવટ અને અધિકારીઓ ની કામગીરી ખરેખર દુર્ભાગ્યપૂર્ણ અને શરમજનક-છે.
લાખો કરોડો રૂપિયા ના ખર્ચે બનાવેલા ડાન્સિગ ફુવારા આજે ૧૨ વર્ષ થી ધૂળ ખાઈ રહ્યા છે. અને લાખો રૂપિયા વેતન સાથે રાજાશાહી સુવિધાઓ થી લશાલસ શાસન પ્રશાસન ના અધિકારીઓ અને નેતાઓ મોજ મસ્તી કરી રહ્યા છે. નવસારી જિલ્લામાં કોરોના મહામારી માં હજારો અને જમીની હકીકત માં લાખો નાગરિકો ની મોતનો ફોર્મ પુરાવો સાથે ભરવામાં આવી રહ્યા છે.એવી રીતે નવસારી વિજલપોર નગરપાલિકામાં વિકાસ ફક્ત ફાઈલો માં જ બતાવી સરકાર નો કરોડો રૂપિયા ખર્ચ કરવામાં આવી રહ્યો છે.અને જમીની હકીકત માં ફક્ત અને ફક્ત અધિકારીઓ દ્વારા ભ્રષ્ટાચાર કરવામાં આવી રહ્યો છે.હવે અધિકારીઓ અને મોટા ભાગના ભ્રષ્ટાચાર માં સામેલ શાસન માં જ હોય ત્યારે ભ્રષ્ટાચાર ઉપર કાર્યવાહી કોણ કરશે એ હવે જોવાનું બાકી રહ્યુ...

शिव शक्ति -D की एक बूंद जिंदगी की अपनाये अपनी और अपनो की जिंदगी में खुशियां लायें - लोक रक्षक हेल्थ केयर नवसारी

  शिव शक्ति -D की एक बूंद जिंदगी की अपनाये

 अपनी और अपनो की  जिंदगी में खुशियां लायें -  लोक रक्षक हेल्थ केयर नवसारी 


 शिव शक्ति -D एक बूंद जिंदगी की

LIFE  SAVER  DROPS IN HERBAL MEDICINE

         आज मानव जीवन एक महामारी के प्रकोप से त्राहिमाम हो चुका है। अभी तक हमारे देश के ही नहीं अपितु पूरे विश्व के वैज्ञानिक रात दिन इस वायरस की खोज में लगे हुए हैं। WHO की मानें तो अभी तक इसकी कोई भी मक्कम दवा नहीं मिल पाई है। सिर्फ और सिर्फ मेडिकल ट्रायल बेस पर चिकित्सा की जाती है। फिर भी हमारे देश के वैज्ञानिकों ने काफी मेहनत मसक्कत के बाद वेक्सीन और प्राथमिक सुरक्षा की दृष्टि से कुछ संभावित दवाओं की खोज अवश्य कर ली है।  परंतु क्या इन सभी के बाद हम पूर्ण रूप से सुरक्षित है इसका अभी तक कोई जवाब नहीं मिल पाया है।  सुरक्षा के उपाय करना आज भी अनिवार्य है। सुरक्षा संरक्षण के उपायों में हमारे प्राचीन ऋषियों-मुनियों की खोज बीन से प्राप्त जड़ी बूटी वनस्पतियां आज भी मानव जीवन में महत्वपूर्ण योगदान दे रही है। ऐसी ही ऋषि मुनियों की गहन खोज बीन से प्राप्त देशी शुद्ध वनस्पतियों से निर्मित  हर्बल जानकारी को आधुनिक पद्धति द्वारा एक महत्वपूर्ण खोज हर्बल दवा लोकरक्षक हेल्थ केयर द्वारा शिवशक्ति - D बनाई गई है।

 शिवशक्ति -D  के घटकों में अजमासत्व, कपूर, तुलसी, पुदीना,लविंग, नीलगिरी ,मेन्थोल, फूलों के सत्व जैसे मानव शरीर में महत्वपूर्ण योगदान प्रदान करने वाली जड़ी बूटियों को एक विशेष प्रकार से संग्रहित कर बनाया गया है। और हजारों नागरिकों ने इसका उपयोग किया है। यह पूर्ण रूप से किसी भी प्रकार के केमिकल के बिना बनाये जाने की वजह से 100% हर्बल है। और इसके प्रयोग से किसी भी प्रकार की आड़ असर दुष्प्रभाव नहीं है। और इसमें सभी प्रकार की सामान्य से असाध्य में असाध्य बीमारियों एवम सभी पद्धति की दवाओं के साथ भी प्रयोग किया जा सकता है। प्राकृतिक चिकित्सा पद्धति में प्राचीन ऋषियों-मुनियों के समय से इसका उपयोग किया जाता रहा है। एक विशेष पद्धति से निर्मित स्वदेशी दवाओं के एक नियत मात्रा में  उपयोग किया जाता है।

शिवशक्ति डी का उपयोग:-

मानव जीवन संरक्षण में विशेष उपयोगी होने की वजह से आज इसका उपयोग महामारी काल से ही नवसारी जिले के अधिकतर शिक्षा विभाग के शिक्षकगण कर रहे हैं। शिव शक्ति डी का प्रयोग ढेर सारी बीमारियों में किया जाता है । परंतु कुछ खास जरूरी बीमारियो में शिवशक्ति डी का प्रयोग कुछ इस तरह से किया जाता है।

                      श्वास हमारे जीवन में एक विशेष महत्व रखती है। श्वास से ही मानव जीवन की शुरूवात होती है और श्वास न आने अथवा बंद हो जाने से मानव जीवन समाप्त हो जाता है । श्वास को प्राण वायु भी कहा जाता है। प्राण का संचार में श्वास का सबसे महत्वपूर्ण स्थान है। जब तक श्वास चलती रहती है तभी तक हमारा जीवन संभव है। एक आधुनिक सर्वश्रेष्ठ चिकित्सक से लेकर अति आधुनिक वैज्ञानिक भी अभी तक कई संशोधनो खोजबीन कर रहे हैं परंतु आजतक नाम मात्र भी इसके गुण धर्म को समझने में कोई खास कामयाबी नही मिल पाई है। इसीलिये इसे परमात्मा से ही जोडकर देखा जाता है। हमारे शरीर की पांचो इंद्रिया भी इसके श्वास के बिना  क्षण मात्र भी जीवित नही रह पाती हैं। सदियों से हमारे ऋषि मुनि से लेकर भगवान तक इसके चपेट से बच नही पाये । मानव जीवन के प्रारंभकाल से  आज तक लगभग सभी धर्म शाष्त्र इसी श्वास के इर्द गिर्द ही घूम रहे हैं। मानव जीवन में ध्यान का प्रयोग श्वास से शुरूवात होती है। श्वास के बेहतर प्रयोग से मानव जीवन को आनंदमय और स्वास्थ्यमय बनाने के लिये एक बडा ग्रंथ लिखा जा सकता है। मानव जीवन में श्वास को सर्वोच्च स्थान प्राप्त है। शरीर के असाध्य से असाध्य रोगो को श्वास के प्रयोगो से छुटकारा पाया जाता है। जन्म के बाद बच्चा नाभि से श्वास लेता है। परंतु जैसे जैसे बडा होने लगता है उसकी श्वास नाभि के उपर से ही लौट वापस हो जाती है। जिसकी वजह से हमारे आमाशय पेट की सभी बीमारियो की शुरूवात होती है। मानव शरीर में अधिकतर सभी बीमारियां वायरस प्रवेश करने का मुख्य श्रोत श्वास ही है। जिसके लिये आधुनिक वैज्ञानिक आज संरक्षण हेतु मास्क लगाने की सलाह दे रहे हैं। आज प्रदूषण लगभग सभी क्षेत्रो में अपना सर्वाधिक प्रभाव जमा लिया है। आज पानी हवा भोजन ज्यादातर प्रदूषित पाये जाते हैं। इसके लिये सभी राज्य एवम केंद्र सरकारो ने प्रदूषण नियंत्रण विभाग बनाया है जिसका लगभग सभी जिलो में कार्यालय है। इतने सारे ताम झाम के बावजूद भी आज इसको पूर्ण रूप से हम सभी रोक नही पा रहे हैं। परंतु इसे हम कुछ उपायों के द्वारा अवश्य रोक सकते हैं। जिसमे आज प्राकृतिक नैसर्गिक उपाय और वनस्पतियों से निर्मित दवाओ से सबसे अधिक बिना किसी दुष्प्रभाव के किकित्सा ज्यादा कारगर हैंदिखाई देती है। आइये शिवशक्ति डी के कुछ घरेलु आसान प्रयोग के बारे में समझते हैं-

१.महामारी अथवा किसी भी वायरस  में सबसे अधिक हमारे शरीर की श्वसन प्रकृया वाधित होती है। जिसमें आज हजारो नागरिको शिक्षको चिकित्सको नागरिको ने शिवशक्ति डी का प्रयोग कर एक अच्छे परिणाम प्राप्त किया है । जिसमे सबसे पहले शिवशक्ति डी की सिर्फ एक बूंद ही अपनी हथेली में रखकर दोनों हाथों की हथेलियों को एक दूसरे से रगड़कर पानी पीने की मुद्रा बनाकर नाक के नजदीक ले जाकर श्वासोच्छोवास करें। चंद सेकेंड में आपकी पूरी श्वसनतंत्र पूरी तरह से प्रभावित होकर खुल जाती है। और एक आनंदमय महसूस होने लगता है।  एक बार के इस प्रकार के प्रयोग से करीबन तीन से छ घंटों तक इसका एहसास बना रहता है।

२. शिवशक्ति D की दो बूंदे सरसो तिल के ३० मिलीलीटर (३ चम्मच) में  मिलाकर शरीर के एडी, घुटनो, कमर, पीठ, करोड रज्जु, गर्दन, मस्तक आदि किसी भी  प्रकार के दर्द पर हलकी मालिश करें । चंद मिनटो में दर्द में कमी होने लगती है। और यदि घुटने कमर आदि पर मालिस कर नमक की पोटली बनाकर दिन में दो से तीन बार सेकाई करें कुछ ही दिनो में दर्द से छुटकारा मिलने लगता है। 

३. बाल गिरने रूषी आदि की तकलीफो में दो बूंद नारियल अथवा आवले के तेल में डालकर हलका गरमकर सिर के अंदर बालो के नीचे सुबह शाम लगायें डेंड्रप की समस्या बाल गिरने की समस्या में काफी आरामदायक लगता है और कुछ दिनो में समस्या से निजात मिलती है । 

४. साइनस की बीमारी, गले में दर्द, सिर का भारीपन, चेहरे पर काले दाग, छाती मे दर्द, श्वास में तकलीफ , छाती में कफ बलगम , दम अस्थमा की तकलीफो में आज आधुनिक चिकित्सा पद्धति में खासकर कोई कामयाबी वर्षो तक नही देखी जाती । परंतु शिवशक्ति डी की तीन बूंदे दो लीटर उबलते पानी में डालकर सुबह शाम नास लेने - एक पानी के बर्तन में उबलते हुए पानी में डालकर एक चादर रूमाल से चेहरे सिर को कुछ समय के लिये ढक दें। दो तीन मिनिट तक इसी क्रम में रहे । कुछ ही दिनो में इस समस्या से बहुत आराम और कुछ महीनो में छुटकारा मिलने लगता है। 

५.  शिवशक्ति D की एक बूंद को आप चाय अथवा गरम पानी के एक ग्लास में डालकर सुबह शाम पीने से गले की खरास श्वसन प्रकृया में तत्काल आराम लगता है। 

६. शिवशक्ति D को लाइफ सेवर जिंदगी बचाने के कई अद्भुत प्रयोग हैं। इसी लिये इसे धरती का जादु भी कहा जाता है। मास्क लगाने अथवा मुंह पर रूमाल से ढकने की आज सभी सलाह देते है ऐसी हालत में  शिवशक्ति D की एक ही बूंद को रूमाल अथवा मास्क में लगाकर उपयोग करें काफी आरामदायक लगता है । 

किसी भी असाध्य बीमारी से कायमी छुटकारा प्राप्त करने हेतु आप लोकरक्षक हेल्थ केयर से संपर्क कर सकते हैं। 

डा.आर.आर.मिश्रा 

लोक रक्षक हेल्थ केयर 

अलकापुरी सोसायटी शिवाजी चोक के नजदीक 

विजलपोर नवसारी -३९६४५०

मोबाइल:- ९८९८६३०७५६

 

नवसारी शहर में बंदर रोड की हालत गंभीर

नवसारी गुजरात राज्य की सबसे महत्वपूर्ण एवम ऐतिहासिक संस्कारी नगरी के रूप में मानी जाती है। परंतु कुछ वर्षों से इस पर कुछ असामाजिक तत्वों के ...