Tuesday, June 25, 2019

बीमारियों से मुक्ति पाने का सहज तरीका..?जाने कैसे ..?


           बीमारियों से मुक्ति पाने का सहज तरीका..?
                             जाने कैसे ..?
      सामान्य से असाध्य बीमारियों से छुटकारा...? 
आनंदित जीवन के साथ लम्बी उम्र कैसे प्राप्त करें...? 
                              आज की इस भागदौड़ और आपाधापी के साथ प्रति दिन अपनी सामान्य जरूरतों को पूरा करने भारत का सबसे बडा़ लगभग 90% जनमानस अपनी पूरी उम्र व्यतीत कर देता है। और यदि देखा जाये तो अंत तक यही सिलसिला चलता रहता है। और इसी प्रकार हमारी कितनी पीढियां  पूरी हो गई । इसके बाद कितनी और पूरी होगी। यह गति जिसे हम दोहरा रहे हैं। हमारी अगली आने वाली कई पीढियां यही पुनरावृत्ति करती रहेगी। आध्यात्मिक वैज्ञानिक दृष्टि में यदि कहा जाये तो हजारों साल की यह हमारा पुनरावर्तन का नियम ही हमें यह सब करवा लेता है। उदाहरण के लिए जिस भी धार्मिक स्थान को आप मानते हैं। अथवा जब भी अपने से बडो़ के हम जिसका भी चरण छूते हैं। वह जब भी धार्मिक स्थान अथवा वह इंसान हमारे सामने आये , हमारे शरीर के अंग अपने आप झुक जाते हैं। और उसी के साथ यदि देखे जिसे हम नही मानते भले वह कितना भी असीमित हो हमारे अंदर भूलकर भी वह झुकाव नही होता। और यही पुनरावृत्ति हमारे शरीर के साथ भी हो रही है। और यह आप देखेंगे यह सभी क्षेत्रों में  हो रहा है। और यह शरीर के साथ जुडे़ हर क्षेत्र में हो रहा है। वही बीमारियों का जाल, वही पारिवारिक जाल, वही धन संपत्ति का खेल , पैदा होना,पैदा करना ,घर बनाना ,फिर जीवन भर उसी पुरानी परंपराए सदियों से चली आ रही है। वही दुःख और सुःख के असीमित जाल में हम कितनी सदियो से गुजर रहे हैं। यह जो आज हो रहा है हम सोचते हैं कि यह पहली बार हमारे जीवन में घट रहा है। नही यह अब धर्मों के साथ आधुनिक वैज्ञानिक खोज में भी सिद्ध हो चुका है कि यह जीवन की पुनरावृत्ति सदियो से चली आ रही है। हमारे मानव जीवन के शीर्ष पर पहुंचे हुए भगवान महावीर बुद्ध, कृष्ण, मोहम्मद, गुरु नानक जैसे धार्मिक संत महात्माओं ने इस पर काफी जोर दिया है। और उससे निकलने का मार्ग भी अपने अपने युग और समय के अनुरूप बताया है। ए सभी एक ढंग से मानव जीवन ही नही , पूरे सृष्टि के साथ एक महान वैज्ञानिक चिकित्सा का कार्य किया है। जिसे आज हम प्राकृतिक चिकित्सा, नैसर्गिक उपचार, नेचुरोपैथी के नाम से जानते हैं। कुदरती उपचार और प्राण चिकित्सा के रुप में कहीं कहीं इसका उल्लेख मिलता है। इन सभी का विस्तार पूर्वक चर्चा करना आज संभव नही है। यदि आप अथवा आप का स्वजन, परिवार, मित्र, समाज, धर्म इस माध्यम से अपने जीवन की शारीरक मानसिक किसी भी बीमारी से पीडित हो । उसे अवश्य भेंजे ।शायद आपके माध्यम से किसी के अंधेरे जीवन में प्रकाश मिल जाये। बीमारियों के असह्य दुःख से राहत मिले। किसी का अधुरा सपना पूरा हो जाये। हम सब किसी का सहारा बन पाये। आइये आप सभी का इस महान यज्ञ में स्वागत है।
 संपर्क सूत्र :-
ध्यान योग आयुर्वेद नैसर्गिक उपचार केन्द्र 
अलकापुरी सोसायटी, विजलपोर, नवसारी (गुजरात)
मो. 9898630756 / 9328014099

No comments:

Post a Comment

क्या आप अथवा आपका स्वजन असाध्य रोग से पीड़ित हैं ? प्राकृतिक चिकित्सा अपनायें...

प्राकृतिक चिकित्सा क्यों अपनायें ? प्राकृतिक चिकित्सा एक संपूर्ण चिकित्सा पद्धति है जो जड मूड से सभी प्रकार के सामान्...